Wednesday, 26th June, 2019

चलते चलते

सैम पित्रोदा या मनी शंकर अय्यर को भाजपा दे सकती है 'विदेश मंत्री' का पद

26, May 2019 By Guest Patrakar

नयी दिल्ली. नरेंद्र मोदी एक बार फिर से शपथ ग्रहण करने के लिए तैयार हैं लेकिन अपनी प्रचंड जीत के बावजूद उनकी परेशनियाँ कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। दरअसल, उनकी परेशानी का सबसे बड़ा कारण है कैबिनेट मिनिस्टरों का चयन। सूत्रों की मानें तो भाजपा और उनके सहयोगियों के साथ-साथ विपक्षी दल के सदस्य भी कैबिनेट में जगह पा सकते हैं, जिनके नाम हैं- सैम पित्रोदा और मणिशंकर अय्यर।

sam-mani
तेरी मेरी यारी..

इन दोनों का नाम सीधे अमित शाह की सिफ़ारिश के बाद आया है। हमने इस बारे में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से सीधे बात की और इस दरियादिली का कारण पूछा। उन्होंने बताया “देखिए! मोदी जी को जीताने के लिए जितनी मेहनत सैम पित्रोदा और ‘मणि’ ने करी है उतनी तो शायद ही किसी ने करी होगी! हम जब भी कहीं फँसते थे, ये लोग उड़ता हुआ तीर लेकर हमारा काम आसान कर देते थे! फिर मीडिया वाले इनके पीछे दौड़ते थे और हमारी जान बच जाती थी!”

इसलिए मैंने और नरेंद्र भाई ने इन्हें विदेश मंत्री जैसा महत्वपूर्ण पद देने का निर्णय लिया है, हम दोनों को यह पोस्ट ऑफ़र करेंगे, जिसने पहले हामी भर दी उसे कैबिनेट मंत्री बना देंगे!” -शाह जी ने अपनी बात पूरी की।

हालाँकि इस ऑफर को भी कांग्रेस पार्टी, राहुल गाँधी की मोरल विक्टरी बता रही है। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के इंचार्ज प्रियंका वाड्रा का कहना है “यह मेरे भाई की मोरल विक्टरी है कि भाजपा को विदेश मंत्री भी कांग्रेस से लेना पड़ रहा है, सैम पित्रोदा और मणिशंकर अय्यर दोनों राहुल गाँधी के ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ वाली सोच पर चलते हैं! इसी वजह से उन्हें यह पोस्ट देकर खुश किया जा रहा है! मैं सब समझती हूँ!”

वैसे इस माहौल को देखते हुए लग तो नहीं रहा कि कांग्रेस अगले दस साल तक सत्ता में वापिस आ पाएगी लेकिन हमारे हिसाब से सैम और मणि भाई को यह पद स्वीकार कर लेना चाहिए।



ऐसी अन्य ख़बरें