Friday, 10th April, 2020

चलते चलते

भेष बदलकर भोपाल में हैंड सैनिटाइजर बेचने निकले अमित शाह, कांग्रेस के दस और विधायकों से कर लिया संपर्क

16, Mar 2020 By Ritesh Sinha

भोपाल. मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने जबरदस्त चालाकी दिखाते हुए विधानसभा सत्र को 26 मार्च तक के लिए टाल दिया है, कोरोना वायरस का हवाला देते हुए ये कार्रवाई की गई है। जाहिर है इस कदम का सीधा फायदा मुख्यमंत्री कमलनाथ को हुआ है क्योंकि अब उन्हें अपने बागी विधायकों को वापस लाने का पर्याप्त समय मिल गया है।

Amit-Shah-HM1
किसको-किसको हाथ धोना है?

उधर, शिवराज सिंह चौहान ने सदन में जल्दी शक्ति परीक्षण करवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, उनका कहना है कि राज्य की सरकार अल्पमत में आ गयी है।

हालाँकि गृहमंत्री अमित शाह इन कानूनी दाँव-पेंचों में ज्यादा विश्वास नहीं करते, यही वजह है कि उन्होंने कमलनाथ सरकार की कमर तोड़ने के लिए दस और कांग्रेसी विधायकों से संपर्क कर लिया है और अब ये सभी विधायक इस्तीफ़ा देने को राजी हो गये हैं।

“कांग्रेसी विधायक तो कड़ी सुरक्षा के बीच होटल में बंद हैं, शाह ने उनसे संपर्क कैसे कर लिया?” -ऐसा पूछे जाने पर बीजेपी के एक बड़े नेता ने बताया कि, “देखिए! आप शाह जी को नहीं जानते, अगर वो किसी विधायक से संपर्क करने की ठान लेते हैं तो दुनिया की कोई ताकत उन्हें ऐसा करने से रोक नहीं सकती!

जैसे ही उन्हें पता चला कि फ्लोर टेस्ट 26 तारीख तक टल गया है, वो तुरंत भेष बदलकर उस होटल के पास हैण्ड सैनिटाइजर बेचने निकल पड़े जहाँ कांग्रेस पार्टी के विधायक ठहरे हुए हैं!

आपको तो पता है कि आजकल इस आइटम की कितनी कमी है, हैंड सैनिटाइजर का नाम सुनकर विधायकों ने उन्हें अपने रूम में बुला लिया और इसी दौरान कांग्रेस पार्टी के दस विधायक ‘प्रभावित’ हो गये!”

यानि कि जिस कोरोना वायरस का नाम लेकर कमलनाथ ने सदन को दस दिन के लिए स्थगित करवा लिया था उसी कोरोना के तोड़ ‘हैंड सैनिटाइजर’ का नाम लेकर शाह जी ने सारा गेम ही पलट दिया!” -नेताजी ने आगे बताया।

अमित शाह के इस स्ट्राइक के बाद इन विधायकों ने बागी तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं, सबका वीडियो सोशल मीडिया पर रिलीज कर दिया गया है जिसमे वो मामाजी को अपना नेता मानने की बात कह रहे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें