Friday, 20th July, 2018

चलते चलते

एअर इंडिया को मिलकर ख़रीदेंगे सारी पार्टियों के नेता, 24 घंटे में कर देंगे पैसों का इंतज़ाम

01, Jun 2018 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. अरबों-ख़रबों के घाटे में चल रही एअर इंडिया के लिए बोली लगाने की कल आख़िरी तारीख़ थी लेकिन कोई माई का लाल सामने नहीं आया। ऐसे में देश की सारी पार्टियों के नेताओं ने फ़ैसला किया है कि वे सब मिलकर उसे ख़रीदेंगे। पैसों का इंतज़ाम करने के लिए उन्होंने सिर्फ़ 24 घंटे का समय माँगा है।

All Party Leaders
कांग्रेसी नेताओं को सारा खर्चा समझाते जेटली जी

‘डील’ के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि “हमारी सरकार ने बहुत कोशिश की लेकिन कोई ख़रीदार मिला ही नहीं! ऐसे में हम नेताओं ने सारे आपसी मतभेद भुलाते हुए एक साथ मिलकर उसे ख़रीदने का फ़ैसला किया है। यह त्याग हम देशहित में कर रहे हैं ना कि अपने हित में!”

“हम नेता लोगों को वैसे भी एअर इंडिया में फ्री में चलने की आदत है। और अगर एयरोप्लेन अपने हो जाएंगे तो फिर लेट होने पर फ़्लाइट को ज़बरदस्ती रुकवाने की ज़रूरत भी नहीं पड़ेगी। और फिर अगले साल लोकसभा चुनाव भी आ रहे हैं, एक रैली से दूसरी रैली में जाने के लिए हमें हवाई जहाज़ों की बहुत ज़रूरत पड़ेगी।”

“लेकिन सर, आपको पता है एअर इंडिया पे 5 अरब डॉलर से भी ज़्यादा का क़र्ज़ है?” -रिपोर्टर का यह सवाल सुनकर मंत्री जी की ज़ोर से हँसी छूट पड़ी। किसी तरह हँसी को कंट्रोल करते हुए वो बोले, “पांच अरब डॉलर तो अकेले नरेश अग्र…” कहते-कहते वो बीच में ही रुक गये और बोले- “छोड़ो…मेरे मुँह से क्यों कहलवाते हो!”

इस सारे मामले पर जाने-माने आर्थिक विशेषज्ञ धीरेनभाई धंधेवाला का कहना है कि “हमारे नेताओं ने इत्ता माल दबा रक्खा है…इत्ता माल दबा रक्खा है कि वे चाहें तो इंडिया की सारी एअरलाइन्सों को ख़रीद लें। और अगर वो अपना फ़ॉरेन वाला ब्लैक मनी भी ले आयें ना, तो दुनिया के सारे जहाज़ों को ख़रीद लेंगे।”



ऐसी अन्य ख़बरें