Wednesday, 22nd May, 2019

चलते चलते

सन् 1988 में अमित शाह मुझसे मिलने बुलेट ट्रेन में आया करते थे: पीएम मोदी

14, May 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. ‘डिजिटल कैमरा’ और ‘ई-मेल’ बम गिराने के बाद भी लगता है प्रधानमंत्री मोदी का जी नहीं भरा है। फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए उन्होंने दावा किया है कि सन् 1988 में अमित शाह उनसे मिलने बुलेट ट्रेन में आया करते थे। उस समय बुलेट ट्रेन का कांसेप्ट दुनिया के लिए  थोड़ा नया था, लेकिन वो गुजरात में पहले ही आ चुका था।

modi-shah
क्यों? सही कहा ना?

फ़ेकिंग न्यूज़ को दिये एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में उन्होंने दावा किया कि, “देखिए! अमित भाई गांधीनगर से चढ़ते थे और वड़नगर में उतर जाते थे! लगभग दस मिनट का सफर होता था और किराया यही कोई ढाई रुपये के आसपास पड़ता था, उस जमाने में! बहुत तेज़ चलती थी ट्रेन!”

“यही हमारा रोज का कार्यक्रम हुआ करता था, वो बुलेट ट्रेन में आते थे और मैं स्टेशन पर चाय बेचते हुए उनका इंतज़ार किया करता था! एक पंथ दो काज! वो जैसे ही वड़नगर उतरते, हम पार्टी का काम करने एक साथ निकल पड़ते थे!” -उन्होंने आगे बताया।

“एक और किस्सा सुनाता हूँ मैं आपको! एक बार क्या हुआ कि उनकी ट्रेन छूट गई तो उन्हें एक भारी-भरकम बाइक में बैठकर वड़नगर तक आना पड़ा! आज उसी बाइक को हम ‘बुलेट’ के नाम से जानते हैं! बहुत महँगी आती है, तेल भी ज्यादा पीती है! दुबले-पतले लोगों को बिल्कुल नहीं जँचती!” -कहते हुए पीएम मोदी ने अपनी बात समाप्त की।

उधर, प्रधानमंत्री मोदी के इन दावों से कांग्रेस पार्टी में हड़कंप मच गया है, उन्हें लगता है कि शायद ‘मोदी’ सातवें चरण के मतदान के लिए कोई गेम खेल हैं, यही वजह है कि उन्होंने भी जमकर ‘फेंकने’ के लिए अपने पार्टी अध्यक्ष को मना लिया है।

पार्टी के नेताओं ने जब राहुल से कहा कि, ‘आपको मोदीजी से पीछे नहीं रहना है, जमकर फेंकना है!’ तो राहुल ने जवाब दिया कि, “..तो अब तक मैं क्या कर रहा था!”



ऐसी अन्य ख़बरें