Thursday, 18th July, 2019

चलते चलते

"मैं धूप में खड़ा हूँ, मुझे बोलने दो!" -न्यूज़ रिपोर्टर ने स्टूडियो में बैठे एंकर से माँगी भीख

20, Apr 2019 By Ritesh Sinha

मुंबई. “हम सीधे चलेंगे अपने रिपोर्टर ‘मनोज’ के पास जिन्होंने यह खबर ब्रेक की है? बताइए मनोज?” -स्टूडियो में बैठे एंकर स्वाति ने गला फाड़ते हुए कहा। एंकर से हरी झंडी मिलते ही रिपोर्टर मनोज मिश्रा की आँखों में चमक आ गई, उसे ऐसा लगा जैसे पाँच लाख की लॉटरी लग गई हो। वह उस समय बिहार की ‘अररिया’ सीट से, मुख्य सड़क पर पागलों की तरह धूप में खड़े होकर रिपोर्टिंग कर रहा था।

news
बोलने की भीख मांगता मनोज

“देखिए स्वाति! तेजस्वी यादव ने आज की रैली में…!” -मनोज ऐसा कह ही रहा था कि एंकर बीच में ही चीख पड़ी- “..तो क्या अब मान लिया जाए कि महागठबंधन में दरार पड़ गई है? बड़ी खबर आ रही है बिहार से.. बताइए मनोज?”

स्टूडियो में बैठे एंकर द्वारा इस तरह टोंकना रिपोर्टर को पसंद नहीं आया, फिर भी उसने अपने गुस्से को काबू में करते हुए कहा- “देखिए स्वाति! राहुल की रैली में ना आकर तेजस्वी यादव ने महागठबंधन को..!”

एक बार फिर से एंकर ने उन्हें टोंकते हुए कहा, “जी हाँ मनोज! बहुत बड़ी खबर भेजी है आपने! आज ये साबित हो गया कि आरजेडी और कांग्रेस में सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा है! तो ये थे हमारे रिपोर्टर मनोज जिन्होंने ये एक्सक्लूसिव खबर हमें भेजी है…!”

लगातार दो बार हुए अपमान से मनोज बिखर गया और दहाड़ें मारकर रोने लगा। “आप मुझे बोलने क्यों नहीं देतीं हैं, मैं आपके हाथ जोड़ता हूँ, मुझे तीस सेकंड तो बोलने दीजिए! पिछले एक घंटे से कड़ी धूप में खड़ा हूँ, दया कीजिये!

छुट्टी के लिए आवेदन डाला था, उसका भी कुछ नहीं हो रहा है, ऊपर से जुलाब से परेशान हूँ, मुझे घर जाना है, बहुत हो गया ये सब!” -कहता हुआ मनोज वहीँ माथा पीटने लगा।

यह देखकर स्वाति भी भड़क गईं और गुस्से में बोली- “मैंने तो तुम्हें इतना सारा बोलने को दे दिया, बॉस (अर्नब) होते तो दो सेकंड भी ना बोलने देते!”

अर्नब का नाम सुनते ही मनोज चार्ज हो गया और उठकर कैमरा वगैरह संभालने लगा। “कोई बात नहीं, मैं तो मज़ाक कर रहा था!” -उसने हँसते हुए कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें