चलते चलते

जासूसी की ख़बर से पत्रकार नाराज़, बोले- "पत्नी से बात करें या गर्लफ्रेंड से, तुमको क्या?"

31, Oct 2019 By कोलंबस

नयी दिल्ली. पत्रकारों की व्हाट्सएप पर जासूसी होने की ख़बर पर पत्रकारों की संस्था ‘एडिटर्स गिल्ड’ ने बयान जारी कर इसकी निंदा की है। गिल्ड ने इसे पत्रकारों की स्वतंत्रता का हनन बताते हुए आरोप लगाया कि सरकार के साथ हमारी अच्छी ट्यूनिंग, विपक्ष को भा नहीं रही है इसलिए विपक्ष की ओर से जासूसी की ये कोशिश की गई है। हम दूध का दूध और पानी का पानी करके रहेंगे। उधर, सरकार ने तेज़ी दिखाते हुए इस मामले की जाँच की बात कही है।

journalists-whatsapp-hacking
गर्लफ्रेंड को व्हॉट्सएप मैसेज भेजता एक जर्नलिस्ट

यह ख़बर सामने आने के बाद प्रेस क्लब पर पत्रकारों की भीड़ जुटने लगी है। मौक़े पर मौजूद एक बुजुर्ग पत्रकार ने बताया कि “प्रेस क्लब में आम तौर पर शाम के टाइम ही रौनक दिखाई देती थी लेकिन आज तो सुबह से ही नज़ारा हैरान करने वाला है।” एक दूसरे पत्रकार ने कहा कि “ये हमारी पर्सनल लाइफ़ पर हमला है। हम फ़ोन पर अपनी पत्नी से बात करें या फिर अपनी गर्लफ्रेंड से, इसको जानने की कोशिश क्यों की जा रही है। इससे तो हमारे शादियाँ भी टूट सकती हैं। हम इसका कड़ा विरोध करते हैं।”

इस बारे में कांग्रेस के संदिग्ध अध्यक्ष राहुल गाँधी ने एक और फ़ॉरेन टूर पर निकलते हुए कहा, “मैं तो ख़ुद हैरान हूँ कि जब भी मैं विदेश जाता हूँ तो यह बात ट्विटर पर कैसे लीक हो जाती है, जबकि यह बात सिर्फ़ मेरी एक पत्रकार मित्र को ही पता होती है। इससे पता चलता है कि मोदी सरकार जासूसी करके विपक्ष और पत्रकारों के बीच दरार डालने का षड़यंत्र रच रही है।”

राहुल के इस बयान पर बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा का कहना है कि “सबसे पहले तो इस बात की जाँच होनी चाहिए कि राहुल बाबा बार-बार विदेश क्यों जा रहे हैं? कहीं वो थाइलैंड का नाम लेकर इजराइल तो नहीं जाते। इसलिए हम अपनी सरकार से माँग करते हैं कि इस बात का पता लगाया जाये कि इस जासूसी काँड के पीछे कहीं राहुल बाबा का हाथ तो नहीं है!”



ऐसी अन्य ख़बरें