Saturday, 17th November, 2018

चलते चलते

अब 'द हिन्दू' अख़बार पर भड़के हामिद अंसारी, कहा- "ऐसे सांप्रदायिक नामों से मुस्लिम हो रहे भयभीत"

23, Jul 2018 By Fake Bank Officer

नयी दिल्ली. भारत मे बढ़ती असहिष्णुता को लेकर पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी इन दिनों काफ़ी चिंतित दिखाई दे रहे हैं। अपनी पुस्तक ‘Dare I Question?’  के विमोचन के बाद वो काफी सक्रिय हो गए हैं और किसी से भी कुछ भी सवाल पूछ लेते हैं। इसी कड़ी में उन्होंने अपना ताज़ा शिकार ‘द हिन्दू’ न्यूज़पेपर को बनाया है। उनका कहना है कि इस प्रकार के सांप्रदायिक नाम देश का माहौल ख़राब कर रहे हैं।

Hamid-Ansari
अख़बार के नाम से भयभीत अंसारी जी

UPSC की तैयारी में लगे और रोज़ ‘द हिन्दू’ अख़बार चाटने वाले हमारे संवाददाता ने जाकर अंसारी जी से मुलाकात कर उनकी बात समझने की कोशिश की। “मैं पिछले दस सालों से ‘द हिन्दू’ अख़बार पढ़ रहा हूँ। UPSC की क़सम बड़ा ही निष्पक्ष अख़बार है। आख़िर आपको इससे समस्या क्या है?” -हमारे रिपोर्टर ने पूछा।

“समस्या अख़बार से नहीं, उसके नाम से है। दरअसल ऐसे सांप्रदायिक नामों की वजह से ही आज भारत का मुसलमान भयभीत है। यह हमारे संविधान की धर्मनिरपेक्षता की भावना के ख़िलाफ़ है। सिर्फ़ अख़बार ही नहीं, उसका नाम भी संविधान के अनुसार होना चाहिए। इसलिए मुझे ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ पसंद है और टीवी चैनलों में इंडिया टीवी और रिपब्लिक टीवी! आप देखिए क्या सेक्युलर नाम हैं इनके। अब आप ही बताइए अगर मैं ‘द मुस्लिम’ नाम से अख़बार निकालूँ तो यही लोग मुझे कट्टर बोलेंगे।” -अंसारी जी ने समझाते हुए कहा।

पूर्व उप राष्ट्रपति के इस बयान को देश के कुछ डरे-सहमे मुस्लिम युवाओं ने काफ़ी गंभीरता से लिया है और अलग-अलग शहरों में ‘द हिन्दू’ अख़बार के दफ़्तर के बाहर विरोध-प्रदर्शन चालू कर दिये हैं। इसके साथ ही ‘द हिन्दू’ के ख़िलाफ़ भारत की धर्मनिरपेक्ष छवि को नुकसान पहुचाने का मुक़दमा भी ठोक दिया गया है। अचानक हुए इस हमले से घबराए अख़बार ने घोषणा की है कि वो जल्द ही अपना नाम बदलकर ‘द भारत’ या ऐसा ही कोई सेक्युलर नाम रखेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें