Monday, 16th September, 2019

चलते चलते

डॉक्टर की सूझ-बूझ से टला बड़ा हादसा, अंजना ओम कश्यप को ICU का गलत रास्ता बताकर भटकाया

20, Jun 2019 By किल बिल पांडे

मुजफ्फरपुर: मस्तिष्क ज्वर (AES) के कारण बच्चों की मौत से जूझ रहे बिहार के मुजफ्फरपुर में डॉक्टर की सूझ-बूझ की वजह से एक बड़ा हादसा टल गया। श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज के काबिल डॉक्टर श्री सुनील कुमार ने, अपनी चालाकी का परिचय देते हुए, अति-उत्साहित अंजना ओम कश्यप को ICU का गलत रास्ता बताकर भटका दिया।

anjana-kashyap
दस घंटे भटकती रहीं हवेली में

इसका परिणाम यह हुआ कि वो अपनी औसत दर्ज़े की रिपोर्टिंग नहीं कर पायीं और मेडिकल स्टाफ को मरीज़ों का इलाज करने का मौका मिल गया।

यूँ तो सुनील के पास किसी से बात करने का समय नहीं था, लेकिन अपने कीमती वक़्त से चंद मिनट निकाल कर उन्होंने हमसे बात की।

ICU के बाहर नंगे पाँव खड़े हमारे रिपोर्टर को उन्होंने बताया कि, “अचानक बढ़े मरीज़ और उनके परिजन तो हम मैनेज कर पा रहे हैं, पर ये दिल्ली के रिपोर्टर हमसे मैनेज नहीं हो रहे, कसम से! सब ने ICU को जॉगर्स पार्क समझ लिया है, जिसे देखो, बिना प्रोटोकॉल का ख्याल किये माइक लिए घुसा चला आ रहा है!”-उन्होंने एक रिपोर्टर को ICU के बाहर धक्का देते हुए कहा।

अपने कारनामे के बारे में आगे बताते हुए डॉ. सुनील ने बताया कि, “अंजना की बेगैरत रिपोर्टिंग देखकर पहले से ही हम सबका पारा गरम था, आज जैसे ही वो हॉस्पिटल की तरफ बढ़ी और बाकी ICU का पता पूछने लगी तो मैंने उन्हें पुरानी हवेली का पता बता दिया!  ‘सबसे तेज़’ रहने के चक्कर में वो तुरंत वहाँ रवाना हो गयी और हम व मरीज़ बच गए!”

किसी ज़माने में हॉस्टल के वार्डन को उलझाने की ट्रिक यहाँ भी काम आएगी, कभी सोचा नहीं था!” -डॉ सुनील ने नम आँखों से कहा और मरीजों की देखभाल में लग गए।

पूरे इलाके में डॉक्टर सुनील के इस कारनामे की प्रशंसा हो रही है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने सुनील को इस सूझ-बूझ के लिए एक्सीलेंस अवार्ड देने का ऐलान किया है। खबर लिखे जाने तक ‘अंजना’ पुरानी हवेली के आस-पास TRP ढूंढ रही थीं। विशेषज्ञों का मानना है कि वो वहाँ भी अपने काम की चीज़ ढूंढ ही लेंगी।



ऐसी अन्य ख़बरें