चलते चलते

"दीया या मोमबत्ती ना मिले तो आप चेतन भगत की किताबें भी जला सकते हैं!" -मोदीजी

05, Apr 2020 By Fake Bank Officer

नयी दिल्ली. कोरोना से जंग जीतने के लिए मोदीजी ने एक और मास्टर स्ट्रोक खेलते हुए देश की जनता से अपील की है कि वे रविवार 5 अप्रैल, रात 9 बजे घर की सारी लाइट बंद करके दिया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाएँ। बहुत बड़ी संख्या में लोगों ने मोदीजी का समर्थन किया है लेकिन कुछ लोगों का कहना है कि उनके पास दिया और मोमबत्ती तो नही है, ऐसे में उद्देश्य की पूर्ती कैसे होगी?

Modi-Corona-Mask
मेरे पास सबका तोड़ है!

हालाँकि मोदीजी ने इसका भी तोड़ ढूँढ लिया है, उन्होंने सुझाव दिया है कि यदि कुछ भी जलाने को न मिले तो आप चेतन भगत की किताबें तो जला ही सकते हैं, वो तो लगभग सबके घरों में होती ही है, नहीं है तो अपने लंबे बालों वाले दोस्त से मांग सकते हैं।

कुछ लोग जो हमेशा ही मोदीजी के मास्टर स्ट्रोक में कमियाँ निकालते रहते हैं, एक बार फिर से शोर मचाने लगे हैं कि मोदीजी ने बिना तैयारी का मौका दिए ही आग लगाने की अपील कर डाली।

मोदी जी ने यह भी कहा है कि यदि आपके पास चेतन भगत की किताबें भी नही हैं तो आप अपने पुराने कपड़े या अखबार भी जला सकते हैं। हालाँकि उन्होंने हिदायत भी दी है कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखें, चाहे कुछ भी जला दें।

वहीं रविवार रात नौ बजे की इवेंट को लेकर जनता में भारी उत्साह दिख रहा है। मोदीजी का भाषण खत्म होते ही लोगों की भीड़ बाजार में शॉपिंग करने पहुँच गयी। बाजार में पटाखों की मांग तेज़ी से बढ़ी है, खासकर ज़ेबरा बम और 1000 वाली लड़ी की! कुछ अति-उत्साही लोग बड़ा धमाका करने की फिराक में गैस सिलेंडर और RDX भी खरीद रहे हैं।

जो लोग बाहर शॉपिंग करने नही जा पा रहे वो पिछली दीवाली के बचे हुए पटाखे ढूँढ रहे हैं, जिनके पास कुछ नहीं है वे तो नौ बजे से पहले अपना मोबाइल चार्जिंग पर डाल दें यही बहुत बड़ी बात है।



ऐसी अन्य ख़बरें