Saturday, 22nd September, 2018

चलते चलते

राहुल गाँधी के "बेरोज़गार बनते है आतंकवादी" वाले बयान पर भड़के इंजीनियर, निकालेंगे राहुल के ख़िलाफ़ पूरे देश में रैली

27, Aug 2018 By Guest Patrakar

बंगलुरू. काँग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के बयानों की चर्चा दूसरे ग्रहों पर भी होती है। जब भी राहुल मुँह खोलते हैं, तब कुछ ना कुछ ऐसा ज़रूर बोल देते हैं, जिस से काँग्रेस के बचे-खुचे एक-दो राज्य भी ख़तरे में पड़ जाते हैं। कुछ दिनों पहले जर्मनी में राहुल ने बोल दिया कि “आईएसआईएस के आतंकवादी बेरोज़गारी की वजह से बने हैं।”

protest
राहुल के ख़िलाफ़ रैली निकालते बेरोज़गार इंजीनियर

इस बयान के बाद राहुल के ऊपर कई लोग ग़ुस्सा हुए लेकिन एक वर्ग जो इस बयान से सबसे ज़्यादा नाराज़ हुआ, वे हैं हमारे देश के होनहार और बेरोज़गार इंजीनियर! उनका मानना है कि राहुल ने यह बयान उन्हीं को लेकर दिया है और वे इसके विरोध में अब राहुल के ख़िलाफ़ पूरे देश में रैली निकालेंगे।

मामले को और गहराई से समझने के लिए हमने ‘ऑल इंडिया इंजीनियर सोसाययटी’ के हेड तरुण खेतरपाल से बात की। उन्होंने कहा, “इंजीनियर गाँजा मारने के बाद सबसे शांत क़ौम हो जाती है। हम लोग अपनी बेरोज़गारी पर माँ-बाप, रिश्तेदारों और छोटे भाई-बहनों के ताने सुनकर भी चुप रहते हैं। ऐसे में अगर कोई हमें आतंकवादी कहेगा तो हम कैसे सहन कर लेंगे? हम तो राहुल बाबा को अपना मानते थे क्योंकि हमारी तरह उन्हें भी आज तक किसी लड़की ने भाव नहीं दिया और उन्होंने भी ज़िंदगी में कुछ नहीं उखाड़ा लेकिन उन्होंने ऐसा बोलकर हमारे दिल को ठेस पहुँचायी है। माना कि हमारे जैसों में कुछ ओसामा जैसे लोग आतंकवादी निकल गए मगर इसका मतलब ये नहीं कि सारे बेरोज़गार ही आतंकवादी होते हैं। हम आहत हैं और इसलिए अपने ख़ाली टाइम से टाइम निकाल कर हम राहुल के ख़िलाफ़ रैली निकालेंगे।”

हालाँकि राहुल के इस बयान से आतंकवादी संगठन भी नाराज़ हैं। आईएसआईएस के हेड शेख़ शाबिर रहमान ने फ़ेकिंग न्यूज़ को फ़ोन कॉल कर अपनी नाराज़गी जतायी है। रहमान का कहना है कि “हम राहुल की इज़्ज़त करते हैं लेकिन उनका यह बयान हमें सीधे-सीधे इंजीनियरों से जोड़ता है और ये हमारे लिए बेइज़्ज़ती की बात है क्योंकि ना तो हम नाकारा हैं, ना ही घरवालों के ताने सुनते हैं, हमारे पास बंदी भी है और हम नहाते भी रोज़ हैं। ऐसे में कोई हमें इंजीनियर बोलेगा तो कैसा लगेगा? हम राहुल को इसका जवाब ज़रूर देते लेकिन अभी हम PUBG खेलने में बिज़ी हैं। जैसे ही हमारी अडिक्शन ख़त्म होगी हम इस पर ज़रूर कार्रवाई करेंगे।”

ख़ैर, अब राहुल को जल्दी से कोई दूसरा अटपटा बयान दे देना चाहिए ताकि लोग इस बयान को भूल जाएँ। वैसे राहुल को समझना चाहिए कि अब वो काँग्रेस अध्यक्ष हैं और ऐसे बयान देने से और कोई तो नहीं मगर एक दिन काँग्रेस के सारे एमएलए और एमपी ज़रूर बेरोज़गार हो जाएँगे।



ऐसी अन्य ख़बरें