चलते चलते

'अपनी रक्षा स्वयं कीजिये, मेरे भरोसे न रहें' -मोदीजी ने किया देश को संबोधित

14, May 2020 By Fake Bank Officer

नयी दिल्ली.  हमेशा की तरह कोरोना से लड़ने के लिए मोदीजी ने एक बार फिर संबोधन को हथियार बनाया है। इस बार हालाँकि उन्होंने जनता को अच्छी तरह समझा दिया है कि हर बात पर प्रधानमंत्री का मुँह ताकना अच्छी बात नहीं है और खुद भी कोरोना से लड़ने की कोशिश करें।

मोदीजी के आधे घंटे के संबोधन का सार यह था कि जनता अपनी रक्षा स्वयं करे और सरकार के भरोसे न रहे। उन्होंने कहा कि, “मित्रों, आज देश के सामने बड़ी विकट स्थिति है, कोरोना काल चल रहा है, ऐसे में मैं चाहता हूँ कि आप सब आत्मनिर्भर बनें, हर छोटी-छोटी बात पर मेरी ओर देखना छोड़ दें!

Modi-Corona-Address
अपने हिसाब से देख लो!

आगे मोदीजी बोले- “आप ने पिछले 50 दिनों से कोरोना का सामना अपने बलबूते पर बखूबी किया है, आगे भी ऐसा ही करते रहिये! जान है तो जहान है! आप तो जानते ही हैं कि भारत के पास संसाधन सीमित हैं, सरकार आप सबकी मदद तभी कर सकती है जब आप एक दूसरे की मदद करें!

साथ ही PM केयर्स फंड में दिल खोल कर दान करते रहें और उसका हिसाब मांग कर सरकार के कार्य मे बाधा उत्पन्न ना करें! काढ़ा पीते रहें और साबुन से हाथ धोते रहें! साफ़-सफाई का भी ध्यान रखें! सरकार को जब आपकी जरूरत होगी, वह खुद आपके पास आएगी!” -इन्हीं दारूण वचनों के साथ भाषण समाप्त हुआ।

वहीं, मोदीजी के इस भाषण को एक बार फिर से मास्टर स्ट्रोक बताया जा रहा है। भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि- “मोदीजी ने जनता को झूठा दिलासा देने के बजाय सच बताना बेहतर समझा। अब जनता पहले से ज्यादा सावधानी बरतेगी और आत्मनिर्भर बनेगी। इस प्रकार सरकार भी कोरोना से ध्यान हटाकर देश के विकास के लिए काम कर सकती है!”



ऐसी अन्य ख़बरें