Tuesday, 22nd October, 2019

चलते चलते

गणेश पंडाल को एक हज़ार रुपये चंदा देने वाले व्यक्ति को प्राप्त हुई शक्तियाँ, ट्रैफिक पुलिस के रोकने पर हो गया गायब

15, Sep 2019 By Ritesh Sinha

भोपाल. पिछले दिनों शहर के एक व्यस्त चौराहे पर अनोखा चमत्कार हो गया, ट्रैफिक पुलिस हवलदार तिलोक कुमार ने दावा किया है कि उसने एक आदमी को सरेआम गायब होते हुए देखा है। हुआ यूँ कि अपनी ड्यूटी के दौरान तिलोक को एक ऐसा बंदा नज़र आया जो बिना हेलमेट के धड़ल्ले से चला आ रहा है, यह देखकर उसने उसे थमने इशारा किया। हवलदार तिलोक का इशारा देखकर वह बाइक वाला रूक तो गया लेकिन जब तक तिलोक उसके नज़दीक जा पाता वह गायब हो चुका था।

traffic-police
नंबर चेक करने गाडी रोकता हवलदार

तिलोकचंद यह दृश्य देखकर भौंचक्का रह गया, उसे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हो रहा था। जब उसने यह बात अपने साथी पुलिस वालों को बताई तो वे सब हँसने लगे। सबने कहा कि ऐसा हो ही नहीं सकता।

गायब होने वाले व्यक्ति की बाइक वहीँ पर खड़ी थी अतः नंबर प्लेट की सहायता से उसके मालिक का पता लगाया गया। मामले की तह तक जाने के लिए तिलोक खुद उस व्यक्ति के घर गया और पूछा कि उसके पास गायब होने की शक्ति कहाँ से आई?

तिलोक की बातें सुनकर रमेश (गाड़ी के मालिक) ने बताया कि, “साब! मैंने पिछले दिनों गणेश पंडाल वालों को एक हज़ार रुपये का चंदा दिया था, तब से मेरे अंदर अलौकिक शक्तियाँ आ गई हैं! मुझे लगा कि आप लंबा-चौड़ा  चालान मारने वाले हैं इसलिए मैं उन्हीं शक्तियों का उपयोग करते हुए वहाँ से गायब हो गया!”

यह सुनकर तिलोक ने रमेश से पूछा कि, “ऐसी बात है तो तेरा बाइक गायब क्यों नहीं हुआ?” तो रमेश ने उत्तर दिया कि, “एक हज़ार में सिर्फ एक व्यक्ति ही गायब हो सकता है!”

तिलोक सोच में डूब गया। “चल एक बार और गायब होकर चैरसिया पान भंडार जा और मेरे लिए तीन कमला पसंद लेकर आना!” -तिलोक ने चमत्कार देखने के इरादे से कहा।

यह सुनते ही रमेश आँखें फाड़-फाड़कर देखने लगा। “अबे जाता है कि नहीं?” -तिलोक ने तमतमाते हुए कहा। इसी बीच रमेश की पत्नी वहाँ आ गई और उसने अपने पति का सारा भांडा फोड़ दिया- “साब! इसके पास कोई अलौकिक शक्तियाँ नहीं है, दरअसल ये एक नंबर का भगोड़ा है, पलक झपकते ही फरार हो जाता है! लगता है आप भी झाँसे में आ गये!” -बस, इतना सुनने की देरी थी कि हवलदार तिलोक ‘हल्क’ बन गया।

उसने रमेश की जमकर सुताई की और पुलिस के हवाले कर दिया और हाँ… चालान काटना नहीं भूला।



ऐसी अन्य ख़बरें