Friday, 10th April, 2020

चलते चलते

सोशल डिस्टेंसिंग का संदेश दे रहे नेताजी के साथ हुई धक्का-मुक्की

22, Mar 2020 By Ritesh Sinha

भोपाल. प्रधानमंत्री मोदी के ‘जनता कर्फ्यू’ के एलान के बाद इस कर्फ्यू को सफल बनाने की सारी जिम्मेदारी अब जनता के हाथों में आ गई है। समाज के कई हिस्सों में इस कर्फ्यू के लिए उत्साह देखा जा रहा है लेकिन शहर के दिग्गज नेता बलवंत रॉय के अनुभव कुछ अच्छे नहीं रहे हैं।

shivraj
सोशल डिस्टेंसिंग का प्रचार करते नेताजी

हुआ यूँ कि जनता कर्फ्यू के संबंध में लोगों को जागरूक बनाने के लिए बलवंत जी ने पाँच सौ लोगों की भीड़ इकठ्ठा कर ली थी। एक छोटी सी जगह पर खचाखच भीड़ देखकर नेताजी का भाषण निकल आया।

मीडिया वाले भी इस कार्यक्रम को कवर करने पहुँच गये थे अतः उनका जोश और बढ़ गया। उन्होंने माइक हाथ में लिया और भाषण देना शुरू कर दिया- “देखिए! हमें कोरोना को हराना होगा, आपसे अपील है कि साफ़-सफाई का ध्यान रखें और एक-दूसरे से दूरी बनाकर चलें! कोरोना नजदीक आने से फैलता है, मैं मोदीजी के सोशल डिस्टेंसिंग के आह्वान का समर्थन करता हूँ..!”

वो ऐसा कह ही रहे थे कि पीछे से किसी ने धक्का दे दिया। नेताजी का बैलेंस बिगड़ गया और वो गिरते-गिरते बचे। कार्यक्रम स्थल में शरीर से शरीर टकराने लगे।

“अरे आराम से खड़े रहो यार, इतनी भी क्या जल्दी है!” -नेताजी ने अपने गुर्गों को संयम बरतने की अपील जारी की पर कोई फायदा नहीं हुआ, धक्का-मुक्की चलती रही। इसी बीच पचास लोग और सभागृह में घुस आये,  सोशल डिस्टेंसिंग का अभियान अपने चरम पर पहुँच गया, पैर रखने की जगह तक नहीं बची।

धक्का-मुक्की के बीच नेताजी ने जैसे-तैसे अपना भाषण ख़त्म किया, हाथ उठाकर महापोज दिया और चलते बने। बाद में फ़ेकिंग न्यूज से बात करते हुए उन्होंने बताया कि, “देखिए! ये समय लापरवाही करने का नहीं है, हमें जनता कर्फ्यू का पालन करना चाहिए! अभी मैं एक और जनसभा को संबोधित करने जा रहा हूँ, वहाँ भी सोशल डिस्टेंसिंग के फायदे बताऊंगा!”



ऐसी अन्य ख़बरें