Saturday, 20th October, 2018

चलते चलते

'नोटबंदी से भी बड़ी गलती थी शत्रुघ्न सिन्हा को खुला छोड़ना!' -नेपाली PM से बोले मोदी

12, May 2018 By Fake Bank Officer

काठमांडु. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भले ही 2 दिन की यात्रा पर नेपाल गए हों, पर दिमाग उनका अभी भी कर्नाटक चुनाव की चिंताओं में उलझा हुआ है। एक तरफ श्रीरामुलू के वीडियो ने मोदी की नींद उड़ा दी है, वहीँ बीजेपी के आन्तरिक लोकपाल शत्रुघ्न सिन्हा की नसीहतें भी खत्म होने का नाम नही ले रही हैं।

modi-nepal
शत्रुघ्न सिन्हा की जुबान कतरने के लिए कैंची का इशारा करते मोदीजी

सेक्युरिटी गार्ड का काम करने वाले हमारे संवाददाता ने काठमांडू से बताया कि, जब मोदीजी नेपाल के प्रधानमंत्री ‘ओली’ के साथ अपनी कर्नाटक चुनाव की रणनीति पर चर्चा कर रहे थे, तभी उन्होंने टीवी पर यह खबर सुनी कि ‘शॉटगन’ ने फिर से एक बार पार्टी के खिलाफ ज़हर उगला है। सुनते ही उनका मूड-ऑफ हो गया, उन्होंने तुरंत अपना ट्विटर लॉग-इन किया और शत्रुघ्न सिन्हा के ट्वीट्स को ‘Report abuse’ कर दिया।

इसके बाद वो दुखी स्वर में ओली को बताने लगे- “यार मुझे समझ नही आ रहा इस आस्तीन के साँप का मैं क्या करूँ? आज तक एक बार भी इसने पार्टी के भले की बात नही कही! इसको खुला छोड़ना मेरी सबसे बड़ी गलती थी! मैं तो कहता हूँ इसके हाथ बाँध देने चाहिए ताकि ये ट्विटर चला ही ना सके!”

फिर वो दार्शनिक अंदाज़ में बोले “हमे तो अपनों ने हराया, विरोधी पार्टियों में कहाँ दम था!  एक तरफ राहुल गाँधी विरोधी होकर भी पार्टी के भले की बात कहता है, और दूसरी तरफ अपना आदमी ही गड्ढा खोद रहा है!” बता दें की अभी कुछ दिन पहले ही शत्रुघ्न सिन्हा ने यह बोलकर कि उनका पार्टी छोड़ने का फिलहाल कोई इरादा नही है, मोदी जी को और चिंतित कर दिया था!

ओली को वैसे तो मोदीजी की ये बातें ज्यादा समझ में नही आई, पर जब उन्होंने मोदीजी से नेपाल को मिलने वाली ‘ग्रांट’ के पेपर साइन करने को कहा तो मोदीजी ने यह कहकर मना कर दिया कि “यार! इस तनाव भरे माहौल में मैं साइन नहीं कर पाऊंगा!”  इसके बाद मोदी जी जनकपुर के जानकी मंदिर गए और शत्रुघ्न सिन्हा की सदबुद्धि के लिए प्रार्थना की।



ऐसी अन्य ख़बरें