Sunday, 8th December, 2019

चलते चलते

केंद्र शासित प्रदेश बनते ही धरने की साइट फाइनल करने लद्दाख रवाना हुए केजरीवाल

08, Aug 2019 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. संसद में ‘जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक’ पास होते ही ‘कुछ बड़ा होने वाला है’ की अटकलों के उलट, जम्मू-कश्मीर का नक्शा और छोटा हो गया है। अनुच्छेद 370 हटते ही जम्मू-कश्मीर के दो टुकड़े हो गये और दो नए केंद्र शासित प्रदेश बन गये, दिल्ली की तरह!

Kejri-Dharna
लद्दाख के लिए रवाना होते केजरीवाल

यह जानकारी मिलते ही ‘आप’ सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल तुरंत एक्शन में आ गए हैं और ‘ट्रिवागो’ वाले बन्दे को खुद फ़ोन मिलाकर जम्मू-कश्मीर व लद्दाख का पैकेज बुक करने को कहा है। केजरीवाल वहाँ धरने की साइट फ़ाइनल करने जायेंगे। इससे पहले ‘आप’ ने राज्यसभा में विधेयक का समर्थन करके सबको चौका दिया था।

इस पूरे मामले पर फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए ‘आप’ के सदाबहार प्रवक्ता राघव चड्ढा ने बताया कि “पहले तो, हमेशा की तरह अरविंद भाई इस विधयक का भी विरोध करने वाले थे लेकिन जब उन्हें पता चला कि दो नये केद्र शासित प्रदेश बनेंगे, तो वो ख़ुशी के मारे उछल पड़े।” – चड्ढा ने चहकते हुए कहा।

“दो नये केद्र शासित प्रदेशों का मतलब है दो नये एलजी और जहाँ एलजी वहाँ पंगे और जहाँ पंगे वहाँ धरना! आखिर एलजी से भिड़ने का इतने साल का अनुभव किस दिन काम आएगा? इसलिए अरविंद भाई पार्टी ने तय किया है कि इस बार धरने की लोकेशन पहले ही फाइनल कर ली जाये। लास्ट मोमेंट पर लोकेशन तय करने में बड़ी दिक्कत होती है बाई गॉड! ऊपर से, कम बिजली के बिलों से केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने एक ट्रिप मारने लायक सेविंग्स तो कर ही ली है।” कहकर चड्ढा ट्विटर पर ट्रोल्स को जवाब लिखते हुए चलते बने।



ऐसी अन्य ख़बरें