Monday, 26th August, 2019

चलते चलते

IPL ऑक्शन की तरह खुले में लगेगी कर्नाटक के विधायकों की बोली, सुप्रीम कोर्ट का आदेश

19, Jul 2019 By बगुला भगत

बंगलुरू. कर्नाटक में एक महीने से परदे के पीछे चल रही विधायकों की सौदेबाज़ी से तंग आकर सुप्रीम कोर्ट ने आज एक एतिहासिक फ़ैसला सुना दिया। कोर्ट ने इन विधायकों की नीलामी खुले में करने का आदेश दिया है और कहा है कि यह नीलामी कर्नाटक विधानसभा में आईपीएल की तरह ही आयोजित की जाये।

Karnataka-MLA-Auction1
विधायकों की बोली लगाते

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई ने सारे पक्षों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। माननीय न्यायाधीश ने कहा कि लोगों को पता ही नहीं चल पा रहा है कि विधायकों का रेट क्या चल रहा है। खुली बोली लगने से उनके रेट में एकरूपता आयेगी और कोई भी विधायक अपना रेट अनाप-शनाप नहीं बता सकेगा और खरीदारों को भी आसानी रहेगी।

माननीय कोर्ट ने कहा कि हमने यह क़दम नेताओं की ख़रीद-फ़रोख़्त में पारदर्शिता लाने के लिए उठाया है। अभी हाल ये है कि कहीं कोई नेता अपना रेट 5 करोड़ बता रहा है तो कहीं कोई उसी काम के लिए 50 करोड़ माँग रहा है। कोई नियम-क़ायदा है ही नहीं! किसी-किसी को पैसे के साथ मंत्री पद भी चाहिए और थाइलैंड का टूर भी!

इसलिए कोर्ट ने इसे सिस्टेमेटिक बनाने का फ़ैसला किया है। खुली नीलामी होगी तो सामने वाली पार्टी को भी पता रहेगा कि अपोजिशन वाला क्या ऑफ़र कर रहा है। फिर उसी हिसाब से वो रेट घटा-बढ़ा सकता है।

कोर्ट ने इस ‘एमएलए-ऑक्शन’ के लिए आईपीएल के पूर्व नीलामी-संचालक रिचर्ड मैडली का नाम फ़ाइनल कर दिया है। कोर्ट का कहना है कि मैडली को नीलामी कराने का बहुत लंबा एक्सपीरिएंस है और वो एक साल से खाली भी बैठे हैं क्योंकि आईपीएल ने उनकी जगह पे नया बंदा रख लिया है।



ऐसी अन्य ख़बरें