Friday, 22nd November, 2019

चलते चलते

राफेल के ऊपर लिखे जाने वाली शायरी के लिए प्रतियोगिता आयोजित करेगी भारत सरकार, प्रसून जोशी होंगे जज

12, Oct 2019 By किल बिल पांडे

 नई दिल्ली. भारत को अपना पहला राफेल विमान मिल गया है, विमान की तस्वीरें भारतीय न्यूज़ चैनलों के हाथ लगते ही ‘पाकिस्तान की तबाही’ की विस्तृत जानकारी देते विशेष कार्यक्रमों की बाढ़ आ गयी है।

rafale शायरी
यहीं पर लिखी जाएगी शायरी

ये तस्वीरें कईं कारणों से चर्चा में हैं, पहले तो दुश्मनों के दाँत खट्टे करने के इरादे से लिए गए विमान के टायर खुद नींबू की वजह से खट्टे होते दिखाई दिए। ऊपर से रक्षा मंत्री, राजनाथ सिंह भी काफी जोश मे नज़र आये, ऐसा लग रहा था कि तुरंत पकिस्तान की ओर निकल जाएँगे।

खबर है कि भारत सरकार, राफेल के ऊपर संदेश लिखने के आईडिया से इतनी प्रभावित हुई है कि बाकायदा उसने शायरी प्रतियोगिता आयोजित करने का फैसला किया है, इस प्रतियोगिता में जो भी जीतेगा उसकी शायरी को राफेल पर लिखा जाएगा।

इस मसले पर और अधिक जानकारी देते हुए, रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता प्रकाश सिन्हा ने कहा कि, “देखिये! आमतौर पर गाड़ी के पीछे शेरो-शायरी लिखना हमारी परंपरा का अटूट हिस्सा रहा है, हम लोग तो ‘नैनो’ को भी नहीं छोड़ते तो राफेल का साइज़ तो फिर भी बहुत बड़ा है! इस पर ‘शेर’ छोड़िये, पूरी ग़ज़ल लिखी जा सकती है!”

राफेल नया है तो ‘शेर’ भी नया होना चाहिए, वही घिसे-पिटे पुराने शेर लिखकर हम विमान को बरबाद नहीं कर सकते! इसलिए नये लोगों को मौका देने जा रहे हैं! शायरी ऐसा होना चाहिए कि दुश्मनों के इरादे पस्त हो जाएँ और वो आत्मसमर्पण कर दें!” -सिन्हा जी ने ख़राब शायरी को आग के हवाले करते हुए कहा।

प्रतियोगिता के औपचारिक ऐलान से पहले ही, लीक हुई इस खबर ने देश के साहित्यकारों में नव-उर्जा का संचार कर दिया है। कुछ अति-उत्साहित वीर रस के कवियों ने तो अपने खून से कविता लिख कर रक्षा मंत्रालय के गोदाम भर डाले हैं।

प्रतियोगिता को मिले ज़बरदस्त रिस्पांस के बाद रक्षा मंत्रालय ने अधिसूचना जारी कर सबको सचेत किया है कि केवल देशभक्ति और जीवन के अनमोल संदेश देती रचनाओं को ही प्राथमिकता दी जाएगी।

जज्बाती होकर, प्यार में धोखा खाए आशिक अपनी टूटे दिल की भड़ास, शायरी के रूप में भेज कर अपना और सरकार का समय बरबाद ना करें। ऐसा करने वाले लड़कों को गिरफ्तार करके सजा के तौर पर हिमेश रेशमिया और रानू मंडल के गाने ‘लूप’ पर सुनाये जायेंगे।

सूत्रों की मानें तो कुमार विश्वास प्रतियोगिता के जज बनने की रेस में सबसे आगे चल रहे थे लेकिन गीतकार से पत्रकार बने प्रसून जोशी ने ‘फकीरी’ पर कविता सुनाकर अंतिम समय में बाज़ी अपने नाम कर ली।



ऐसी अन्य ख़बरें