Sunday, 8th December, 2019

चलते चलते

बीवी को हमेशा ‘शुगर’, ‘हनी’ और ‘जलेबी’ कहने वाले पति को हुई डायबिटीज

22, Nov 2019 By चीखता सन्नाटा

ग्वालियर. अपनी पत्नी को बात-बात पर ‘हनी’, ‘शुगर’ और ‘जलेबी’ जैसे दिव्य मंत्रों से पूजने वाले ग्वालियर निवासी रसिक दास को आजकल डायबिटीज ने घेर लिया है। रसिक महाराज तो प्रेम-वश अपनी पत्नी को इन नामों से बुलाया करते थे, उन्हें क्या पता था कि ‘साइड इफ़ेक्ट’ नाम की भी कोई चीज होती है।

husband-wife 5
अपनी पत्नी को ‘हनी’ कहता रसिक

आज सुबह चाय के साथ ‘बासी’ रोटी खाते समय, जब उन्होंने अपनी पत्नी को ‘हनी’ कहने के लिए मुँह खोला तो उनकी जुबान लंबी होकर लटक गयी और वह बेहोश होकर गिर पड़े।

रसिक दास की गोद ली हुई इकलौती पत्नी, इमरती देवी जब उन्हें अस्पताल लेकर गयी तब उनके ‘डायबिटिक’ होने का खुलासा हुआ। डॉक्टरों ने जाँच में ‘रसिक’ का शुगर लेवल काफी हाई बताया है और पर्ची के नीचले हिस्से में करेले का जूस जमकर पीने की सलाह जारी कर दी है।

“जितनी बार मैं अपनी पत्नी को ‘शुगर’ कहकर बुलाता हूँ उतनी बार तो मैंने अपने जीवन में मिठाई नहीं चखी होगी!” -ICU जाते समय रसिक दास ने रोते-रोते, नाक टपकाते हुए कहा। “आम आदमी का जीना दूभर हो गया है भाईसाब! तनिक भी मिठास नहीं बची है जीवन में!” -उनका अगला वाक्य था।

उधर, हॉस्पिटल में लगे ‘एक्वेरियम’ को जी भरकर देख रहीं इमरती देवी ने बताया कि, “इनका शरीर ‘शुगर’ और ‘हनी’ जैसे भारी-भरकम शब्दों को झेलने में सक्षम नहीं था फिर भी मुझे ऐसा ही कहकर पुकारते थे! कभी-कभी तो वे बिना बात के भी मुझे इन शब्दों को घंटों सुनाया करते थे!”

डायबिटीज के जाने-माने विशेषज्ञों ने रसिक दास जी को हाई शुगर और बढ़ते वजन से मुक्ति पाने के लिए लिए अपनी पत्नी को ‘चुड़ैल’, ‘डायन’, ‘छाती पर मूंग दलने’ वाली, जैसे अनेक पौराणिक मंत्रों से संबोधित करने का नुस्खा बताया है।

“इन आर्गेनिक मंत्रों से तन और मन दोनों को शांति मिलती है, ये मंत्र हमारे माहौल और संस्कृति के अनुरूप हैं और चिरकाल से प्रभावशाली रहे हैं! पाश्चात्य शैली में घुलती-मिलती हमारी युवा पीढ़ी इन मंत्रों का महत्व भूलती जा रही है, जो उनके असमय तनाव में रहने और अनेकों बीमारीयों का मुख्य कारण है!” -महान आयुर्वेदाचार्य बैजनाथ पांडे ने  कहा।

उधर, स्वास्थ्य विभाग ने एक विज्ञप्ति जारी कर लोगों को अपनी पत्नी के लिए ‘शुगर’ ‘हनी’, ‘जलेबी, ‘इमरती’ ‘मिश्री’, ‘स्वीट’ जैसे हानिकारक शब्दों का प्रयोग करने में सावधानी बरतने और देशी मंत्रों के जाप को अपनाने की सलाह दी है। हालाँकि अंतर्राष्ट्रीय दबाव को देखते हुए दूसरों की पत्नियों पर इन शब्दों के प्रयोग पर अभी छूट दी गई है।



ऐसी अन्य ख़बरें