Tuesday, 19th November, 2019

चलते चलते

रविशंकर प्रसाद ने जितनी बार भी धमकी दी है, उसका वीडियो बनाकर बेचेगी सरकार, करोड़ों रुपये मिलने की संभावना

01, Oct 2018 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के बीच, केंद्र सरकार को रेवेन्यू जुटाने का एक जबरदस्त आईडिया आया है। मोदी सरकार ने घोषणा की है कि रविशंकर प्रसाद के उन वीडियोज को मार्केट में बेचा जाएगा, जिनमें वो विभिन्न लोगों को धमकियाँ दे रहे होते हैं। दरअसल, आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद जी धमकी देने के उस्ताद माने जाते हैं। अब तक वो चार हज़ार लोगों को पाँच लाख बार धमकियाँ दे चुके हैं। अकेले राहुल गाँधी और रॉबर्ट वाड्रा को उन्होंने लगभग तीन लाख बार धमकियाँ दी हैं। हालाँकि, यह शोध का विषय है कि उनकी धमकियों से लोग डरते भी हैं या नहीं!

ravi-shankar-prasad-anger
धमकी देते रवि शंकर प्रसाद जी

PMO में तैनात एक बड़े अफसर ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि, “पेट्रोल के दाम बढ़ते ही जा रहे हैं, हम क्या करें? टैक्स में छूट भी तो नहीं दे सकते ना! इसलिए हमने कुछ नया करने की ठान ली है! एक मंत्री जी हैं, उनके वीडियो’ज हम मार्केट में बेचेंगे! हमें विश्वास है कि ‘गुंडागर्दी’ के क्षेत्र में कैरियर बनाने वाले लोग उनकी सीडी जरूर खरीदेंगे, ताकि धमकी देने की कला सीख सकें!”

इसके अलावा गुरुग्राम, गाजियाबाद और कानपूर में, इस सीडी की दस लाख प्रतियाँ बेचने का लक्ष्य रखा गया है। वित्त मंत्रालय ने अनुमान लगाया है कि इस वीडियो से केंद्र सरकार को लगभग तीन सौ करोड़ का राजस्व प्राप्त हो जाएगा। फिलहाल संकट टालने के लिए इतना पैसा काफी माना जा रहा है।

इस मुद्दे पर हमने मंत्री जी से भी बात की। उन्होंने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा कि, “ये तो मेरे लिए हर्ष की बात है कि मैं ‘सरकार’ के काम आ रहा हूँ! मैंने सोचा भी नहीं था कि मेरा गुस्सा देश के काम आ जाएगा!”

“चलो मैं आपको, अपने नये प्रोजेक्ट के बारे में बताता हूँ, मैं कल मार्क जकरबर्ग को धमकी देने के बारे में विचार कर रहा हूँ! साले ने पाँच करोड़ लोगों का डाटा फिर से लीक कर दिया है! लगता है पिछली बार की धमकी का कोई असर नहीं हुआ है? कल के प्रेस-कॉन्फ्रेंस में उसकी खाल खींच लूंगा!” -कहते हुए वो जकरबर्ग के लिए ड्राफ्ट बनाने लगे।



ऐसी अन्य ख़बरें