Monday, 26th August, 2019

चलते चलते

उद्योगपतियों से कट्टे की नोंक पर 'निवेश' करवाएगी सरकार, इकॉनमी की हालत सुधारने के लिए लिया गया निर्णय

02, Aug 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. जब से मोदी सरकार दूसरी बार सत्ता में आई है, अर्थव्यवस्था को लेकर सबके निशाने पर है, देश में ‘रोज़गार’ की हालत भी कुछ ठीक नहीं है। हालाँकि मोदी सरकार ने इससे निपटने के लिए कुछ कदम उठाये हैं लेकिन वे नाकाफी साबित हो रहे हैं। जब सारे उपाय विफल हो गए तो केंद्र सरकार ने इस चुनौती से निपटने का एक धाँसू आईडिया ढूंढ निकाला है।

thief
कट्टे की नोंक पर होगा निवेश !

सरकार ने अब देसी उद्योगपतियों को कट्टे की नोंक पर इन्वेस्टमेंट करवाने का प्लान बनाया है ताकि इकॉनमी को पटरी पर लाया जा सके। जाहिर है यह काम वित्त मंत्री नहीं कर सकते अतः गृहमंत्री जी को यह काम सौंपा गया है।

फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए मुख्य आर्थिक सलाहकार ने बताया कि, “हमने तो कह दिया है कि सभी बीमारियों का एक ही इलाज है ‘निवेश’ लेकिन जब कोई हमसे पूछता है कि निवेश कहाँ से आयेगा तो हम वैसे ही चुप हो जाते हैं जैसे अर्नब के सामने पैनलिस्ट!”

क्या करें? हमारे देसी निवेशक तो अपना पैसा लगा नहीं रहे हैं, सिर्फ सरकारी निवेश से गाड़ी ज्यादा दिन नहीं चल सकती! कुछ ना कुछ तो करना ही पड़ेगा ना! इसलिए हमने गौरमिंट को ये ‘कट्टा’ वाला आईडिया दिया है! अब देखता हूँ कौन फैक्ट्री लगाने से मना करता है?” -कहते हुए वे विदेशी निवेशकों से मिलने सिंगापुर रवाना हो गये।

अफसरों की सलाह पर सरकार ने ‘राष्ट्रीय बलपूर्वक निवेश प्रबंधन योजना’ को मंजूरी दे दी है। गृहमंत्री अमित शाह ने योजना का उद्घाटन करते हुए दस अफसरों को छः बोर वाली बंदूक के साथ मुंबई रवाना कर दिया। इस कदम से अगले छः महीनों में ही दस लाख करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त होने की संभावना है।

उधर, इस योजना के लांच होते ही उद्योगपतियों ने धड़ाधड़ MoU’s करना शुरू कर दिया है। कोई नहीं चाहता कि अमित शाह का भेजा हुआ अफसर उनके घर आये।



ऐसी अन्य ख़बरें