Monday, 17th December, 2018

चलते चलते

शशि थरूर के बाल और रविशंकर प्रसाद के चश्मे को पीछे खींचकर बाँधने के लिए केंद्र सरकार ने जारी किया फंड

17, May 2018 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में आज कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई थी, जिसमे कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। जनहित के फैसले लेते हुए कैबिनेट ने केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के चश्मों को पीछे खींचकर बाँधने के लिए एक हज़ार करोड़ के फंड को मंजूरी दे दी है।

shashi-ravi
अब इन दोनों को मिल जाएगी राहत

इस पैसे से एक मज़बूत रस्सी खरीदी जाएगी, ताकि मंत्री जी के चश्मे को पीछे खींचकर अच्छे से बाँधा जा सके। बोलते समय रविशंकर प्रसाद जी का चश्मा, अपने लिए निर्धारित स्थान को छोड़कर नीचे चला आता है, और नाक के बहुत बड़े हिस्से पर कब्ज़ा कर लेता है। बस, यही बात मोदी सरकार को अच्छी नहीं लगी और उन्होंने उस चश्मे का इलाज खुद करने का फैसला कर लिया है!

गौरतलब है कि रविशंकर प्रसाद जी को आए दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ती है। जब भी वो पत्रकारों के सामने आते हैं, उनका आधा समय अपने चश्मे को ऊपर उठाने में ही निकल जाता है। एक लाइन बोलने के बाद जब वो अपना चश्मा ऊपर उठाते हैं, तो दूसरी लाइन ख़त्म करने से पहले ही वो नालायक फिर से नीचे उतर आता है!

इसके अलावा कैबिनेट ने शशि थरूर के लिए भी पाँच सौ करोड़ रुपए एलोकेट करने का फैसला लिया है। इन पैसों से या तो उनके बाल ‘सेट’ करवाए जाएँगे, या फिर उनके जुल्फों को हमेशा के लिए रस्सी से बाँधकर पीछे खींच दिया जाएगा। ताकि उन्हें बोलते समय कोई परेशानी ना हो!

कैबिनेट के इन फैसलों से रविशंकर प्रसाद जी फूले नही समा रहे हैं। फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए उन्होंने बताया कि, “देखिए! मोदीजी की नज़र सब पर रहती है, मेरी चश्मों पर भी! उन्होंने मेरे लिए फंड तो दिया ही, साथ ही कांग्रेस के सांसद के लिए भी फंड एलोकेट कर दिए! ये ‘सबका-साथ सबका-विकास’ नहीं है तो और क्या है? हमारे लिए सब बराबर हैं!” -कहते हुए वो अपना चश्मा ऊपर उठाकर साइज में बिठाने लगे।



ऐसी अन्य ख़बरें