Tuesday, 22nd October, 2019

चलते चलते

'मंदिर बनने से नुकसान होगा या फ़ायदा?', बीजेपी ने बुलाई इमरजेंसी मीटिंग

18, Sep 2019 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने आज जैसे ही कहा कि राम मंदिर केस की सुनवाई 18 अक्टूबर तक पूरी हो जानी चाहिए, बीजेपी के खेमे में खलबली मच गयी। बीजेपी अध्यक्ष (असली वाले) अमित शाह ने आनन-फ़ानन में पार्टी की इमरजेंसी मीटिंग बुला ली।

BJP-Meeting-Mandir1
बीजेपी मीटिंग का एक दृश्य

मीटिंग में सारे नेताओं ने मंदिर केस में आ रही तेज़ी पर चिंता जताई, जिस पर शाहजी ने उनसे हिम्मत ना हारने और धैर्य बनाये रखने की अपील की। घबराये नेताओं का हौसला बढ़ाते हुए उन्होंने कहा, “कौर्ट से पहले भी ऐसे दिल दुखाने वाले फ़ैसले होते आये हैं लेकिन हमने हमेशा उनका बहादुरी से सामना किया है।”

इसके बावजूद सारे नेता यही कहे जा रहे थे- “अगर वो सच में बन गया तो हमारा क्या होगा?” कुछ नेता सोने का अंडा देने वाली मुर्गी का किस्सा सुनाने लगे।

यह देखकर शाहजी थोड़ा ग़ुस्सा हो गये और सबको डाँटते हुए बोले, “चुप हो जाओ सब…एकदम चुप!” डाँट सुनकर पूरे हॉल में सन्नाट छा गया। फिर वो सबको समझाते हुए बोले, “फ़ॉर एग्ज़ाम्पल, अगर वो बन भी गया तो पाकिस्तान कहीं भागा जा रहा है क्या! वो तो है ही हमारे पास!”

“और फिर नेहरू है…वंदे मातरम् है…भारत माता की जय है…क्यूँ टेंशन ले रहे हो? चलो हँसो अब!” -उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा तो सब में जोश भर गया और पूरा हॉल ‘जय श्री राम’ और ‘भारत माता की जय’ के नारों से गूँज उठा। कुछ नेता तो जोश में आकर नाचने और गाने भी लगे।

‘ना मुँह छुपा के जीयो’ गाना गाकर बाहर निकल रहे पार्टी के मशहूर डिबेटर संबित पात्रा से जब हमारे रिपोर्टर ने बात करने की कोशिश की तो वो यह कहकर निकल लिये, “नहीं…नहीं! तुम भी ट्रिलियन और ज़ीरो के बारे में पूछोगे! अब मैं कुछ नहीं बोलूँगा!”



ऐसी अन्य ख़बरें