Tuesday, 26th March, 2019

चलते चलते

चुनावों की तारीख़ घोषित करने से पहले अमित शाह ने हमसे सरकार बनाने की दावेदारी पेश की थी: चुनाव आयोग

15, Mar 2019 By Guest Patrakar

नयी दिल्ली. चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनावों की तारीख़ घोषित कर दी है। इस बार ‘आम चुनाव’ अप्रैल के दूसरे हफ़्ते से शुरू हो कर ‘मई’ के अंत तक चलेंगे और मतगणना 23 मई को प्रस्तावित है। लेकिन चुनाव आयोग की प्रेस-कॉन्फ्रेंस से पहले कोई शख्स था, जो चुनाव से पहले ही अपनी सरकार बनाने का दावा पेश कर रहा था, और वो हैं ‘अमित शाह’

eci
मैंने तो मना कर दिया!

मुख्य चुनाव आयुक्त अरोड़ा जी की मानें तो अमित शाह ने उन्हें प्रेस-कॉन्फ्रेंस से ठीक तीन घंटे पहले कॉल करके कहा “आप क्यों चुनाव रखवा कर देश का पैसा बर्बाद कर रहे हैं? मुझे पूरा विश्वास है कि इस बार भी चुनाव भाजपा ही जीतेगी और प्रधानमंत्री मोदी ही बनेंगे! इसलिए ये सब छोड़िए और ऑफिस में बैठकर एसी का मज़ा लीजिए!”

“या फिर आप ‘बीजेपी’ को विजेता घोषित करते हुए एक चिट्ठी राष्ट्रपति जी को भेज दीजिए! देश का समय और पैसा दोनों बच जाएँगे! ना नौ मन तेल होगा और ना राधा नाचेगी!” -अमित भाई ने आगे कहा।

हालाँकि उनकी बातों को अरोड़ा जी ने हँसी-मज़ाक़ में टाल दिया। उधर, कांग्रेस ने इसे चुनाव आयोग में भारी गड़बड़ी का नाम दे दिया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि- “अगर अमित शाह इतने कॉंफिडेंट हैं कि सरकार उनकी ही बनेगी, तो इसका मतलब साफ़ है कि EVM से छेड़छाड़ की जा सकती है! या फिर उन्होंने कुछ नया जुगाड़ कर लिया है! जादू-टोना टाइप! मुझे तो पक्का यकीन है!”

उनके इस बयान के बाद जब चुनाव आयोग ने उन्हें अपनी उम्मीदवारी छोड़ने के लिए कहा तो सुरजेवाला चुप हो गए। खैर, चुनाव में अभी लगभग दो महीना बाकी है, ऐसे में रोज़ ऐसे नमकीन क़िस्से सुनने को मिलते रहेंगे। आप पढ़ते रहिए फ़ेकिंग न्यूज़!



ऐसी अन्य ख़बरें