Tuesday, 20th August, 2019

चलते चलते

अब नेताओं का भी होगा रजिस्ट्रेशन, चुनाव आयोग से लाइसेंस मिलने पर दे सकेंगे जितने चाहे भड़काऊ भाषण

06, Feb 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए चुनाव आयोग ने विवादित बयान देने के नियमों में थोड़ा बदलाव कर दिया है। नये नियमों के मुताबिक अब सिर्फ वही नेता विवादित बयान दे पाएँगे जिनका रजिस्ट्रेशन चुनाव आयोग के पास होगा। अगर उसके अलावा किसी ने अपनी पार्टी की ओर से भड़काऊ बयान दिया तो पार्टी पर भारी जुर्माना लगाया जाएगा।

ec
विवादित बयान देने के लिए भी बनवाना पड़ेगा लाइसेंस

यही वजह है कि लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान करने से पहले चुनाव आयोग ने सभी राजनैतिक दलों को एक चिट्ठी लिखी है। आयोग ने सभी दलों से उन नेताओं की सूची मांगी है जो अपनी पार्टी की ओर से विवादित बयान देंगे।

सूची मिलते ही चुनाव आयोग इन नेताओं को भड़काऊ भाषण देने का लाइसेंस जारी कर देगी।

चुनाव आयोग के एक बड़े अफसर ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि, “देखिए! जब तक चुनावों में विवादित बयान ना दिए जाएं तब तक मज़ा ही नहीं आता! इनफैक्ट, चुनाव ही इसलिए करवाए जाते हैं ताकि लोगों को अपने नेताओं का टैलेंट देखने को मिले! इसलिए हम इस महत्वपूर्ण परंपरा को रेगुलेट करना चाहते हैं ताकि ज्यादा आकर्षक और गौरवपूर्ण तरीकों से विवादित बयान दिये जा सकें!”

उधर, चुनाव आयोग की चिट्ठी मिलते ही सभी दल अपने नेताओं की लिस्ट बनाने में जुट गए हैं। सूचना मिली है कि बीजेपी की लिस्ट में गिरिराज सिंह का नाम लिखना अमित शाह भूल गए थे, बाद में जब उन्होंने पार्टी छोड़ने की धमकी तो  शाह ने उनका नाम लिस्ट में जोड़ दिया।

उधर, राहुल गाँधी ने संजय निरुपम की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन कर दिया है जो ऐसे नेताओं को ढूंढकर निकालेगी जो इस काम में माहिर हों!

इस पर निरुपम का कहना है कि “ये काम तो मैं अकेले कर सकता हूँ, मुझे किसी के सहारे की जरूरत नहीं है!”



ऐसी अन्य ख़बरें