Tuesday, 15th October, 2019

चलते चलते

भारतीय रेल का साफ-सुथरा खाना खाने से यात्रियों की हालत बिगड़ी, चार की हालत गंभीर

26, Apr 2019 By किल बिल पांडे

चित्रकूट. भारतीय रेल अपनी लापरवाहियों से कोई सीख लेता नज़र नहीं आ रहा है, ना उन्हें यात्रियों के सुविधा की चिंता है और ना दुविधा की। हाल ही में ‘संपर्क क्रांति’ एक्सप्रेस के टाइम पर आने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि एक नयी घटना ने ‘रेलवे’ की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगा दिए हैं ।

rail-food
ऐसा ही खाना दे दिया था रेलवे वालों ने!

ख़बर है कि दिल्ली से चलने वाली ‘महाकौशल एक्सप्रेस’ में गुरुवार रात साफ़-सुथरा और स्वादिष्ट खाना परोस दिया गया था। जिसे खाते ही तक़रीबन 50 से ज्यादा यात्रियों की तबियत बिगड़ गयी, जिसमें से चार की हालत गंभीर बताई जा रही है। मरीजों को चित्रकूट के जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए होश में आये एक मरीज प्रशांत ने इस हादसे के बारे में बताते हुए कहा कि, “मैं इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्र हूँ, खराब खाने से तो पुराना वास्ता है! साफ पानी भी पी लूँ तो चक्कर आने लगते हैं! दिल्ली ठेसण से जब मैं ट्रैन पर चढ़ा तो बोगी में सब कुछ बदला-बदला सा नज़र आया! साफ़-सफाई वगैरह देखकर सर घूमने लगा!”

“साफ-सुथरी बोगी, ग्लव्स पहने कर्मचारियों तक तो ठीक था पर जैसे ही परोसे गए पनीर में ग्रेवी से ज्यादा पनीर दिखा, मेरा शक यकीन में बदल गया कि आज कुछ अनहोनी होने वाली है! ताज़ा खाने के दो चम्मच चखने के तुरंत बाद ही तबियत बिगड़ गयी और इसके आगे कुछ याद नहीं है!” -प्रशांत ने आँखें नम करते हुए कहा।

बताया जाता है कि ग्वालियर स्टेशन तक आते-आते, खाने के असर ने ज्यादातर यात्रियों को अपनी चपेट में ले लिया था। आनन-फानन में सोये पड़े टी.टी तक सूचना पहुँचाई गई और चित्रकूट स्टेशन में ट्रेन को रुकवाकर पीड़ितों को अस्पताल पहुंचाया गया।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने देर रात ट्वीट कर सफाई देते हुए कहा है कि, “रेलवेज़ के कायदों से अनजान नये वेंडर ने जज़्बात में आकर अच्छी क्वालिटी का खाना परोस दिया था, जिसकी यात्रियों को आदत नहीं है, तथापि हमने वेंडर का लाइसेंस रद्द कर दिया है!” सरकार ने पीड़ितों को मुआवज़े के रूप में IRCTC वेबसाइट का फ्री अकॉउंट देने का वादा भी किया है।



ऐसी अन्य ख़बरें