चलते चलते

दिल्ली की सर्दी से जूझते अमित शाह को मोदी जी ने समझाई सर्दी से बचने की क्रोनोलॉजी

27, Dec 2019 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 95वीं जन्मजयंती के अवसर पर अनेक केन्द्रीय मंत्रियों और भाजपा नेताओं ने ‘सदैव अटल’ पर वाजपेयी जी को श्रधांजलि दी। लेकिन इस अवसर पर सबसे अलग दिख रहे गृह मंत्री अमित शाह चर्चा का केंद्र बने रहे।

shah-modi
ठंड से परेशान शाह जी

दिल्ली की कंपकंपा देने वाली सर्दी के सामने अमित शाह साफ जूझते नजर आये। सिर पर मफलर से लेकर, पाँव पर गर्म जुराबें लपेटे शाह जी सर्द हवाओं को रोकने का भरसक प्रयास करते रहे। लेकिन उनके ही बगल में बैठे मोदी जी पर जैसे ठंड का कोई असर दिखाई ही नहीं दिया।

अपेक्षित व्यवहार के बिल्कुल विपरीत मोदी जी बिना चेहरे पर शिकन लाए आराम से कार्यक्रम में बैठे रहे। सर्दी के मैदान में बेखौफ डटे मोदी जी को देख विपक्ष भी नरेन्द्र मोदी की सर्दी सहने की क्षमता का मुरीद हो गया है और उनसे सर्दी से बचने की टिप्स माँगने लगा है ।

लेकिन विपक्ष को कुछ भी बताने से पहले, मोदी जी ने अपनी दोस्ती का फर्ज निभाते हुए काँपते शाह जी को उन्हीं के अंदाज में सर्दी से बचने के सारे टिप्स दे डाले हैं। श्रद्धांजलि देने पहुँचे फ़ेकिंग न्यूज के रिपोर्टर ने चुपके से यह सारी बातें सुन ली।

मोदी जी ने कहा- “देखो मोटा भाई! आप बेवजह घबरा रहे हैं, सर्दी ज्यादा नहीं हुई है, आपकी सहने की कैपेसिटी जरा कम हो गयी है। लेकिन यह कैपेसिटी बढाई जा सकती है, सिंपल है, आप पूरी क्रोनोलॉजी समझिये!

सबसे पहले ‘सब कुछ’ छोड़ना होगा, फिर खूब सारे मशरुम खाने होंगे, उसके बाद हिमालय जाकर कुछ महीने बिताने होंगे। यह सब करने के बाद अपने आप बॉडी की क्षमता बढ़ जायेगी! हिमालय पर किये गए मेरे प्रवास से ही मैं आज इतना परिपक्व हो गया हूँ कि कुछ भी सह लेता हूँ!” -मोदी जी ने अगली धन्यवाद रैली के भाषण पर नजर दौड़ाते हुए कहा।

क्रोनोलॉजी पता लगते ही शाह जी ने उसके अनुसार मशरूम ऑर्डर करते हुए ऑनलाइन हिमालय पर जाने के टूर पैकेज खोजने शुरू कर दिए हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें