Wednesday, 17th July, 2019

चलते चलते

इंदौर में एक जगह कचरा दिखा तो साफ़ करने पहुँच गये बहुत सारे लोग, हुआ जमकर झगड़ा

25, Jun 2018 By Ritesh Sinha

इंदौर. स्वच्छ भारत सर्वे में लगातार टॉप करने वाले शहर ‘इंदौर’ के लोगों को साफ़-सफाई का चस्का लग गया है। हालत यह हो गई है कि अगर थोड़ा सा कचरा कहीं पर दिख जाए तो बहुत सारे लोग उसे साफ़ करने पहुँच जाते हैं। इसी वजह से कई बार झड़पें भी हो जाती हैं कि साफ़ करने का मौका किसे मिलना चाहिए?

indore
साफ़-सफाई को अंजाम देते पाशा गैंग के सदस्य

ऐसी ही एक घटना कल शाम को हो गयी जब होलकर स्टेडियम के बाहर गन्दगी देखकर कुछ लोग वहाँ तुरंत कचरा साफ़ करने पहुँच गए। उन्होंने अपना काम शुरू भी नहीं किया था कि कुछ और लोग भी उस जगह पहुँच गए और जिद करने लगे कि कचरा साफ़ करने का काम हमें मिलना चाहिए। जो लोग सबसे पहले आए थे वे यह सुनकर भड़क गए। फिर क्या था, दोनों गुट आपस में गुत्थमगुत्था हो गए।

इसी बीच एक तीसरा दल भी जीप में सवार होकर वहाँ आ पहुँचा। वे अपने साथ मेगाफोन और बंदूक भी साथ लेकर आए थे। इस गुट के सरदार, पाशा ने आते ही हवा में दो राउंड फायर किया और मेगाफोन से चिल्लाए “ये हमारा इलाका है, इसलिए यहाँ साफ़-सफाई करने का काम हम करेंगे! यहाँ से चले जाओ! लगता है तुम लोग भी इस झगड़े की वजह से गंदे हो गए हो, कोई बात नहीं, हम तुम लोगों को भी साफ़ कर देंगे!”

लेकिन पाशा की इस धमकी का उन पर कोई असर नहीं हुआ। यह देखकर पाशा को बहुत गुस्सा आया, उसने इस बार लगातार दस राउंड फायर कर दिया। गोलियों की आवाज से सभी मैदान छोड़कर भाग गए। उनके भागते ही पाशा ने अपने ग्रुप के सदस्यों से कहा “चलो! काम पर लग जाओ और पूरा इलाका चकाचक कर दो!” पाशा का आदेश पाते ही उनके गुर्गों ने सारा कचरा साफ़ कर दिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पाशा को अवार्ड देने की घोषणा की है।

उधर, प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी ने इस घटना की निंदा की है। उनका कहना है कि “बंदूक का प्रयोग सिर्फ वोटर्स को डराने के लिए किया जाना चाहिए! इसका गलत इस्तेमाल हम बर्दाश्त नहीं करेंगे! महागठबंधन की सरकार आई तो हम इस पर एक कानून बनाएंगे!” -कहने के बाद वो अरविंद केजरीवाल को फोन मिलाने लगीं।



ऐसी अन्य ख़बरें