Friday, 22nd November, 2019

चलते चलते

मोदी और ट्रंप को लेकर बनेगा 'अंदाज़ अपना अपना' का सीक्वल, राइट्स के लिए मची बॉलीवुड में मारामारी

25, Sep 2019 By किल बिल पांडे

मुंबई. कहते हैं कि जो दिखता है, वही बिकता है और बॉलीवुड से ज्यादा इसे कौन समझ सकता है। टेक्सास के ह्यूस्टन में आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी और अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी दोस्ती की ऐसी छाप छोड़ी है कि बॉलीवुड ने इन दोनों पर ‘अंदाज़ अपना अपना’ का सीक्वल बनाने का फैसला किया है।

trump
अंदाज़ अपना अपना!

जिसने भी दोनों को साथ-साथ चलते देखा, यह कहे बिना रह ही नहीं पाया कि ये लोग दोस्त कम, कुम्भ के मेले में बिछड़े हुए भाई ज्यादा लग रहे हैं। अब इसी गहरी दोस्ती पर बॉलीवुड की नज़र पड़ चुकी है, आलम ये है कि हर ‘प्रोडूसर’ इन दोनों नेताओं की दोस्ती को भुनाने की कोशिश कर रहा है।

अलग-अलग वेब सीरीज, फिल्मों के रीमेक और सीक्वल की संभावनाएँ तलाशने के बाद यह तय हुआ है कि, मोदी और ट्रंप के प्रेम की अमर कहानी को ‘अंदाज़ अपना अपना’ के सीक्वल द्वारा ही दर्शाया जा सकता है, उससे नीचे बात ही नहीं बनेगी। फिल्म अभी बनी भी नहीं है, लेकिन नेटफ्लिक्स, अमेज़न और PVR जैसे दिग्गज इनके राइट्स के लिए मुँह-मांगी कीमत देने के लिए तैयार बैठे हैं।

खबर है कि पहली फिल्म के निर्देशक राजकुमार संतोषी, इस सीक्वल को भी डायरेक्ट करेंगे। फ़ेकिंग न्यूज़ से हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि, “मैं काफी लंबे समय से अपने नये ‘अमर’ और ‘प्रेम’ ढूँढ रहा था, मोदी जी और ट्रंप की दोस्ती की गहराई नापने पर मुझे यकीन हो गया कि यही मेरे आँख के तारे हैं, मेरी बरसों की तलाश पूरी हो गयी है!” -संतोषी ने संतोष व्यक्त किया।

“दोनों को गले मिलते देखा तो लगा कि रामानंद सागर की रामायण का ‘भरत मिलाप’ का सीन देख रहा हूँ, दोनों बिल्कुल ‘अमर’ ‘प्रेम’ जैसे ही हैं, बस ‘प्रेम’ के बाल कुछ ज्यादा ही सफ़ेद हो गये हैं!

दोनों एक जैसी बातें करते हैं, सबको हँसाते हैं, दोनों का एक ही मकसद है और तो और दोनों के दुश्मन भी एक ही हैं! ऐसी रेडीमेड कहानी पर ब्लॉकबस्टर फिलीम तो बननी ही चाहिए! इनफैक्ट अगर मैं ये फिल्म ना बनाऊँ तो धिक्कार है मुझ पर!” -संतोषी ने कमाई का अंदाज़ा लगाते हुए कहा।

यूँ तो फिल्म की कास्टिंग लगभग पूरी हो चुकी है, लेकिन सूत्रों की मानें तो विलेन के किरदार के लिए खुद इमरान खान, चार सौ रुपये प्रतिदिन के हिसाब से काम करने के लिए तैयार बैठे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें