चलते चलते

सलमान खान और टाइगर श्रॉफ को फिजिक्स की दुर्गति करते देख CBSE ने बनाया टेढ़ा पेपर, एच.सी. वर्मा सर ने की थी सिफारिश

10, Mar 2020 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. देश इन दिनों ‘परीक्षा’ के दौर से गुजर रहा है, सीबीएसई की परीक्षा में देश की भावी पीढ़ी अपना सर खपा रही है वहीं ‘कोरोना’ वायरस इंसानियत की परीक्षा ले रहा है। सीबीएसई बारहवीं की परीक्षा दे रहे छात्रों के उस समय होश उड़ गये जब ‘फिजिक्स’ के पेपर में उन्होंने प्रश्न क्रमांक 10 की ओर अपनी नजर दौड़ाई।

ques-paper
टेढ़ा पेपर!

आलम यह रहा, कि बैकबेन्चर्स के साथ-साथ टॉपर्स के भी तोते उड़ गये। किसी को सवाल कांसेप्चुअल बेस्ड लगा तो किसी को आउट ऑफ़ सिलेबस! परीक्षा केन्द्रों के बाहर बड़ी संख्या में छात्र, सीबीएसई को इस दिमाग चकरा देने वाले पेपर बनाने के लिए जमकर कोसते दिखाई दिए।

इस कौतुहल के बीच, सबके मन में एक ही सवाल है कि आखिर सीबीएसई ने ऐसा पेचीदा प्रश्नपत्र बनाया ही क्यों? अब, परीक्षा के लगभग एक हफ्ते बाद, इस राज़ पर से खुद सीबीएसई ने ही पर्दा उठा दिया है।

सोमवार को आयोजित की गयी प्रेस कांफ्रेंस में, सीबीएसई के प्रवक्ता छगन चौबे ने इसका कारण बताते हुए कहा, “देखिये! ऐसा पेपर बनाने की एक ही ठोस वजह है ‘बॉलीवुड’ और उसमें भी खासकर सलमान खान व टाइगर श्रॉफ की फिल्में।

पहले भी हम सब, दिल पर पत्थर रख कर इनकी फ़िल्में देख लिया करते थे, लेकिन वक़्त के साथ-साथ इनकी गुस्ताखियाँ बढ़ती ही जा रही हैं! इनकी फ़िल्मों में स्टोरी न होना कोई नयी बात नहीं, लेकिन फिजिक्स के साथ होने वाला खिलवाड़ तो अब बर्दाश्त के बाहर हो चला है!”

गुस्साए छगन ने आगे बताया कि, “खून तो हमारा रेस-3 का ट्रेलर देखकर ही खौल उठा था लेकिन हमें लगा कि शायद आगे चलकर ये लोग सुधर जायेंगे, पर बाग़ी-3 तो हमारे शराफ़त के ताबूत पर आखिरी कील साबित हुई! खुद, एचसी वर्मा सर ने इस फिल्म को देखने के बाद सीबीएसई हेडक्वाटर्स में फ़ोन लगा कर इस बात कि सिफारिश की थी कि यदि फिजिक्स के अस्तित्व को बचाना है, तो इस पीढ़ी को असली फिजिक्स के महत्त्व को समझाना होगा! नतीजतन, इसलिए ऐसा टेढ़ा पेपर बनाया गया!” -कहते हुए छगन पाँव पटकते हुए चलते बने।

सूत्रों की मानें तो बाग़ी-3 के बाद सीबीएसई ने ऐसी तमाम फिल्मों की लिस्ट बनायी है, जिसमे लॉजिक के साथ ‘विज्ञान’ की भी ऐसी-तैसी की गई है, उच्च स्तरीय कमेटी, लिस्ट में नामांकित फिल्मों को देखकर अपनी आगे की रणनीति तय कर सकती है।



ऐसी अन्य ख़बरें