Friday, 10th April, 2020

चलते चलते

प्रसून जोशी के घर पड़ा डाका, ट्रंप की फकीरी पर लिखी कविता हुई चोरी, न्यूज चैनलों पर शक

26, Feb 2020 By किल बिल पांडे

मुंबई. अमेरिकी राष्ट्रपति की भारत यात्रा पर आते ही उन्हें इम्प्रेस करने का दौर शुरू हो गया था, लोग अपने-अपने तरीके से उन्हें प्रसन्न करने का जुगाड़ लगा रहे थे, गरीबों की बस्ती ढके जाने से लेकर ‘ब्रोकली’ के समोसे परोसे जाने तक, कई प्रबंध किये गये।

prasoon joshi
गीत ‘फकीरी’ के गाता हूँ!

नारंगी बाल और अमरीकी चाल लिए डोनाल्ड ट्रम्प को इम्प्रेस करने को लेकर देशभर में अफरा तफरी का माहौल था, दोनों देशों के बीच व्यापार समझौता हो या ना हो ना हो, लेकिन भारत सरकार भी भैया डोनाल्ड और भौजाई मेलानिया को प्रभावित करने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती थी।

ट्रंप को खुश करने की कवायद का खामियाजा भुगतना पड़ा है देश के प्रसिद्ध गीतकार और सेंसर बोर्ड के चीफ प्रसून जोशी को।

खबर है कि सोमवार की रात उनके घर डाका पड़ गया, डाके में जान-माल के नुकसान की खबर तो नहीं है परंतु शातिर, प्रसून जोशी की नोट्स वाली वो डायरी उड़ा ले गए, जिसमें उन्होंने ट्रंप की फकीरी पर चार पन्ने की कविता लिख मारी थी।

पूरे हादसे पर फ़ेकिंग न्यूज से बात करते हुए प्रसून जी  ने बताया कि, “पूरा शेड्यूल पहले से ही हेक्टिक चल रहा है, एड बनाओ, फिल्मों से एंटी-नेशनल सीन काटो, सेंटी करने वाले लिरिक्स लिखो, बहुत से काम  रहते हैं मुझे! ऊपर से अचानक ट्रंप की फकीरी पर कविता लिखने का काम भी आ गया!

मेरा दिल ही जानता है कि कैसे मैंने भी तीन घंटे की नींद घटाकर इस कविता को लिखा था, दिल्ली दौरे पर आये ट्रम्प के सामने मुझे इसे पढ़कर सुनाना भी था!” -प्रसून ने उबासी लेते हुए कहा।

“हो ना हो, ये जरूर इन न्यूज चैनल वालों का ही काम होगा क्योंकि ऐसे माल की जरूरत उन्हें ही होती है, ये लोग कब से मुझे तुकबंदी वाली हैडलाइन बनाने को लेकर कॉल कर थे! पक्का किसी रिपोर्टर  चोरी की है!

घर की हालत देख कर भी यही लगता है, एक कवि की हाय लगेगी इन चोरों को!” -उन्होंने भावुक होते हुए कहा।

घाटकोपर थाने के एसएचओ मलकीत सिंह ने भी प्रसून के शक के आधार पर सभी यूनिट्स को हाई अलर्ट जारी कर, सभी न्यूज चैनलों पर नज़र बनाने के आर्डर जारी कर दिए हैं। एसएचओ ने बताया कि फकीरी से जुड़ी किसी भी तुकबंदी पर भी पुलिस की पैनी नजर होगी।



ऐसी अन्य ख़बरें