Thursday, 27th February, 2020

चलते चलते

मोदीजी की पसीने से जुड़ी कल्पना देख प्रभावित हुईं मेघना गुलज़ार, पापा गुलज़ार की जगह बनाया अगली फिल्म का गीतकार

26, Jan 2020 By किल बिल पांडे

मुंबई. देश के प्रधानमंत्री मोदी जी का प्रतिभाशाली व्यक्तित्व किसी से छिपा नहीं है, फिर चाहे वो  मगरमच्छ पकड़ना हो, डिजिटल कैमरे का प्रयोग हो या क्लाउड टेक्नोलॉजी से दुश्मनों के राडार को चकमा देना हो। मोदी जी ने वक़्त-वक़्त पर अपने टैलेंट का प्रदर्शन कर सबको चौंकाया ही है।

modi
पसीना पोछते मोदी जी

उनकी ऐसी ही एक प्रतिभा के दर्शन देश को उस समय हुए, जब उन्होंने अपने चेहरे के तेज का राज बताया। ‘राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2020’ के दौरान इस रहस्य से पर्दा उठाते हुए उन्होंने कहा कि वो इतनी मेहनत करते हैं कि पसीना आ जाता है, उसी पसीने से की गयी मालिश उनके चेहरे के तेज को बरकरार रखती है।

पसीने के ऐसे सदुपयोग से पूरा देश सकते में भले ही आ गया हो, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री मोदी जी की कल्पना की उड़ान से अत्यंत प्रभावित नजर आ रही है। खबर है कि मशहूर फिल्म निर्देशिका मेघना गुलजार ने मोदी जी को अपनी अगली फिल्म के गीतकार के रूप में शामिल करने का फैसला  लिया है।

यह खबर इसलिए भी चौकाने वाली है क्योंकि मेघना, मशहूर शायर और गीतकार ‘गुलज़ार’ की पुत्री हैं और अब तक की उनकी सभी फिल्मों के लिरिक्स गुलज़ार साब ने ही लिखे हैं। ऐसे में गुलज़ार की जगह मोदी जी से गीत लिखवाने की बात किसी के पल्ले नहीं पड़ रही।

पूरे मामले पर सफाई देते हुए मेघना ने फ़ेकिंग न्यूज को बताया कि, “देखिये! जब से होश संभाला है पापा की कवितायेँ ही सुनी है, उन्होंने चाँद से लेकर ब्रह्माण्ड तक फैली लगभग हर चीज़ पर अपनी कल्पना की कलम चलाई है लेकिन पापा इन सब के चक्कर में ‘पसीने’ जैसी बेसिक चीज मिस कर गये।  पसीने से मालिश की कल्पना तो पापा के बस की भी बात नहीं है, पहले ओस का इस्तेमाल और अब पसीने का उपयोग- वाह मोदी जी वाह! अब समझ में आया कि क्यों कहते हैं कि ‘मोदी है तो मुमकिन है’ -मेघना ने दीपिका के चेक से दो जीरो काटते हुए कहा।

वहीं सूत्रों की मानें तो मोदी जी अपनी नयी ज़िम्मेदारी की तैयारी में जोर-शोर से जुट गये हैं, जिस वजह से उनका प्रसून जोशी से मुलाकातों का सिलसिला भी तेज हो गया है। अटकलें लगाई जा रही हैं कि फिल्म में ‘फ़कीरी’ पर गाना तो जरूर होगा।        

 



ऐसी अन्य ख़बरें