Saturday, 17th November, 2018

चलते चलते

शॉपिंग के लिए निकले करण जौहर, तेलुगु और तमिल के दस फिल्मों के राइट्स खरीदकर लौटे

22, Aug 2018 By Ritesh Sinha

मुंबई. सामान्य लोग जब शॉपिंग के लिए निकलते हैं तो सूट-बूट, कपड़े, गैजेट्स, या खाने-पीने का सामान खरीदते हैं, लेकिन करण जौहर की शॉपिंग अलग ही किस्म की होती है। वो जब भी शॉपिंग के लिए निकलते हैं तो कम से कम दस रीजनल फिल्मों के राइट्स खरीदकर लौटते हैं, ताकि उन हिट फिल्मों को हिंदी में बनाकर किसी एक्टर के बेटा-बेटी को लांच कर सकें!

karan-johar-launch
स्क्रिप्ट पढ़ने की एक्टिंग करते करण जौहर

इसी कड़ी में करण जौहर कल सज-धजकर शॉपिंग के लिए निकले थे, अपने शॉपिंग के पहले पड़ाव में वो हैदराबाद पहुँचे और दस हिट तेलुगु फिल्मों के राइट्स खरीद डाले। इसके बाद वो चेन्नई के लिए कूच कर गए और वहाँ भी पाँच तमिल फिल्मों का शिकार उन्होंने कर ही डाला। जिन लोगों ने उन्हें अपने राइट्स बेचने से इनकार किया उन्हें वो ‘देख लेने’ की धमकी भी देते चल रहे थे!

दरअसल, करण जौहर का असली निशाना तो ‘भागमती’ था, लेकिन पता नहीं कैसे करण जौहर के हैदराबाद आने की खबर जी. अशोक को लग गई और वे समय रहते अंडरग्राउंड हो गए। इस तरह एक अच्छी फिल्म करण जौहर के हाथों शहीद होने से बच गई।

भागमती के डायरेक्टर जी. अशोक ने एक अज्ञात जगह से हमें फोन करके बताया कि “आजकल तो हम लोग डर-डर कर जी रहे हैं, जब देखो तब कोई ना कोई बॉलीवुड का शिकारी हमारी इंडस्ट्री के दौरे करता है और राइट्स खरीद लेता है! वो लोग खुद नयी कहानी क्यों नहीं लाते! आज तो बड़ी मुश्किल से बचा हूँ, ना जाने कब तक ‘भागमती’ को इन लोगों से बचा पाउँगा!” इसके अलावा अशोक ने केंद्र सरकार से SPG कमांडो की भी माँग की है।

उधर, सूचना मिली है कि संजय लीला भंसाली भी कुछ दिनों पहले शॉपिंग पर निकले थे, उन्होंने अच्छा-अच्छा माल पहले ही कलेक्ट कर लिया था। भंसाली भी दक्षिण की फिल्मों को हिंदी में बनाने की फैक्ट्री चलाते हैं और इसी भरोसे कई हिट फ़िल्में दे चुके हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें