चलते चलते

दीपिका के सपनों में आकर 'आज़ादी' के नारे लगा गये JNU छात्र, कन्हैया कुमार ने घटना से किया इनकार

22, Jan 2020 By Ritesh Sinha

एजेंसी. स्विट्ज़रलैंड के ‘दावोस’ शहर में अवसाद (Depression) पर भाषण देने वाली दीपिका पादुकोण को उस समय तगड़ा शॉक लगा जब उनके सपने में JNU के छात्र जबरदस्ती घुस आए और ‘आजादी’ के नारे लगाकर चले गये।

deepika
नींद से जागने के बाद दीपिका

दीपिका, पहले ही JNU के लेफ्ट समर्थित छात्रों का समर्थन करके अपनी फिल्म का नुकसान करा बैठी हैं, ऐसे में फिर से उन्हीं छात्रों का सपने में आना और हाथ उठाकर फिर से वही नारे लगाना, दीपिका को जरा भी पसंद नहीं आया है। यही वजह है कि वो खुद थोड़ी देर के लिए अवसाद में चली गई थीं।

हुआ यूँ कि ‘दावोस समिट’ का कार्यक्रम निपटाकर दीपिका अपने होटल वापस आईं और फ्रेश होकर थोड़ी सी झपकी ले रही थीं। तभी ना जाने कहाँ से JNU के तीस-चालीस छात्र उनके सपने में प्रवेश कर गये और नारे लगाने लगे।

‘हम लेके रहेंगे आजादी, हम देके रहेंगे आजादी, तुम भी ले लो आजादी, हम भी ले लें आजादी!’ -टाइप के नारों से दीपिका के दिमाग का कोना-कोना गूँज उठा। इन्हीं नारों के बीच अचानक उन्हें ‘छपाक’ के कलेक्शन याद आ गये और वो ‘नहीं…..!’ कहते हुए तपाक से उठ गयीं।

इस घटना के बाद दीपिका इतनी डरी हुई हैं कि उन्होंने एक साथ दो प्रतिज्ञा ले ली है। पहला, देश की राजधानी ‘दिल्ली’ कभी नहीं जाना और दूसरा, अगर चली भी गयीं तो JNU के कैम्पस से दस किमी दूर ही पड़ाव डालना। साथ ही दीपिका ने इंडिया आते ही इस घटना की शिकायत पुलिस में करने की बात भी कही है।

फ़ेकिंग न्यूज़ से फोन पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि, “बड़ा भयानक सपना था, ये JNU वाले तो बड़े चिपकू हैं, चैन से सोने भी नहीं देते!”

उधर, JNU छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने ऐसी किसी घटना से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि, “देखिए! हम किसी की नींद में जाकर नारों की ‘डिलीवरी’ नहीं कर सकते क्योंकि हमें आता ही नहीं है! अगर हमें ऐसा करना आ जाता तो मोदी और अमित शाह एक दिन भी चैन से सो नहीं पाते!



ऐसी अन्य ख़बरें