चलते चलते

ऑटो सेक्टर की मंदी को भगाने के लिए तोड़ रहे हैं वाहन: यूपी पुलिस

24, Dec 2019 By किल बिल पांडे

लखनऊ.  नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ देश भर में हुए प्रदर्शनों में जमकर तोड़फोड़ की गयी, इस बीच पुलिस की ओर से भी कुछ जगहों पर बाइक तोड़ने का मामला सामने आया है।

police
बाइक तोड़ने का प्लान बनाती अलीगढ़ पुलिस

उग्र प्रदर्शनकारी तो अपने स्वाभाव के अनुरूप तोड़-फोड़ मचा ही रहे हैं लेकिन अलीगढ़ पुलिस भी किसी से कम नहीं है। वहाँ के पुलिस जवान, आराम फरमा रही बाइक्स पर लाठीचार्ज करती हुई नजर आई है जिसका वीडियो वायरल हो गया है, किसी को ये समझ नहीं आ रहा कि पुलिस वाले चुपचाप खड़ी गाड़ियों को क्यों कष्ट दे रहे हैं।

कुछ जानकार इसे कम तनख्वाह और ओवरटाइम को लेकर निकाली जा रही भड़ास से जोड़ कर भी देख रहे हैं। लेकिन इन सभी कयासों पर विराम लगाते हुए हमारे रिपोर्टर ने इन घटनाओं के पीछे के असली कारणों का पता लगा लिया है।

किमाम वाला पान खिलाने की शर्त पर बात करने को तैयार हुए पुलिस विभाग के एक क्लर्क चुलबुल चौबे ने बताया कि, “देखिये! यह सारी कार्रवाई अर्थव्यवस्था को ध्यान में रखकर ही की जा रही है, आप तो जानते ही हैं कि देश का ऑटो सेक्टर, मंदी के दौर से गुजर रहा है, गाड़ियाँ बिक नहीं रही और नौकरियों पर संकट छा गया है!

ऐसे में हमारे जवानों ने ऑटो सेक्टर में तेजी लाने का सारा बोझ अपने कंधों पर उठा लिया है! इसी अभियान के तहत अलीगढ़ में यह प्रोग्राम रखा गया था!

हमारी भी कुछ ड्यूटी बनती है कि नहीं? जब तक पुराने वाहन टूटेंगे नहीं, कोई नया वाला क्यों लेगा भला? कॉमन सेंस की बात है, इसीलिए वाहनों को थोड़ा-बहुत खर्चा पानी दिया गया था!

पहली नजर में मामला आपराधिक लग सकता है पर है बिलकुल आर्थिक!” -चौबे जी ने पान मसाले का तीसरा पैकेट गटकते हुए कहा। शर्त के अनुसार हमारा रिपोर्टर चौबे जी को पान खिलाने जाने ही वाला था कि कुछ दंगाई उसके मोटरसाइकिल की हेडलाइट तोड़ गये।



ऐसी अन्य ख़बरें