Wednesday, 19th December, 2018

चलते चलते

'एक डॉलर 40 रुपये' वाली भविष्यवाणी के लिए श्री श्री रविशंकर को मिलेगा अर्थशास्त्र का नोबेल

15, Sep 2018 By Fake Bank Officer

स्टॉकहोम/नयी दिल्ली. आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री 1008 रवि शंकर जी के नाम एक और उपलब्धि जुड़ गई है। सन् 2014 में एक डॉलर की कीमत 40 रुपये के बराबर होने वाली भविष्यवाणी करने के लिए नोबेल पुरस्कारों की ज्यूरी ने उनको अर्थशास्त्र का नोबेल देने का फैसला किया है। अमर्त्य सेन के बाद वह दूसरे ऐसे भारतीय बन गए हैं, जिन्हें यह सम्मान प्राप्त हुआ है। उससे भी ख़ास बात यह है कि अर्थशास्त्र के नोबेल से समान्नित वो पहले ऐसे व्यक्ति हैं, जिनको अर्थशास्त्र के बारे में कुछ भी नही पता!

Sri-Sri-Ravi-Shankar
नोबेल कमेटी को आशीर्वाद देते श्री श्री जी

हमारे जिज्ञासु संवाददाता ने इस विषय पर नोबेल की ज्यूरी के सदस्य श्री रॉबर्ट शुक्ला से बात की और उनसे पूछा कि “जब रुपये की कीमत 72 प्रति डॉलर तक आ गयी है तो आखिर क्या सोचकर वो श्री श्री रविशंकर को यह सम्मान दे रहे हैं?” जिस पर शुक्ला जी ने समझाया, “देखिये यह पुरस्कार उनकी भविष्यवाणी के सही या ग़लत होने से संबंधित नही है बल्कि जिस आत्मविश्वास से उन्होंने यह भविष्यवाणी की थी, उसके लिए दिया गया है।”

“इतने आत्मविश्वास से तो हमारे पीएचडी किये हुए अर्थशात्री भी एक्सचेंज रेट नही बता पाते। उन्हें तो ये भी नहीं पता होता कि कल या दो दिन बाद डॉलर किस दिशा में करवट लेगा और इन महापुरुष ने तो सालों आगे की भविष्यवाणी कर डाली। धन्य है भारत भूमि!” -इतना बोलकर शुक्ला जी ‘आर्ट ऑफ लाइंग’ की किताब पढ़ने चले गए।

उधर, फ़ेकिंग न्यूज़ ने इस मौके पर श्री श्री से भी संपर्क किया और उनकी राय जानने का प्रयास किया, तो गुरुदेव ने बताया कि इस सम्मान के बाद उन्होंने अपने नाम के आगे दो और ‘श्री’ लगाने का फ़ैसला किया है और अब वो ‘श्री श्री श्री श्री 2016 रविशंकर’ कहलाना पसंद करेंगे। उन्होंने इसका श्रेय आर्ट ऑफ लिविंग और सुदर्शन क्रिया को दिया और लगे हाथ यह भी घोषणा कर दी कि अगर 2019 में फिर मोदी सरकार आयी तो पेट्रोल की कीमत 30 रुपये हो जाएगी।”



ऐसी अन्य ख़बरें