Tuesday, 22nd October, 2019

चलते चलते

जान-बूझकर मंदी लाई है मोदी सरकार ताकि मुझे इकॉनमी पर 'बोलना' पड़े, ये बदले की राजनीति है: मनमोहन सिंह जी

13, Sep 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. विपक्ष के नेता हमेशा से मोदी सरकार पर बदले की भावना से काम करने का आरोप लगाते रहते हैं, अब इसी कड़ी में देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी का नाम भी जुड़ गया है। उन्होंने भी मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि वो उन्हें परेशान करने के लिए ही मंदी लेकर आई है।

manmohan-singh2
बदले की राजनीति हो रही है..

सिंह साब ने एक लिखित बयान जारी करके कहा कि, “केंद्र सरकार विपक्ष के नेताओं पर झूठे आरोप लगाकर उन्हें जबरदस्ती जेल में डाल रही है, यहाँ तक कि उन्होंने मुझे भी परेशान करने का तरीका ढूंढ निकाला है!

सबको पता है कि मुझे चुपचाप रहना पसंद है, मेरी चुप्पी तोड़ने के लिए इन्होने GDP के आंकड़े कम करके दिखा दिये! अब मुझे मज़बूरी में इकॉनमी पर बोलना पड़ रहा है! ये अत्याचार नहीं  तो और क्या है?

मुझे पूरा यकीन है कि ये स्लोडाउन मोदी सरकार जान-बूझकर लाई है, इनका सिर्फ एक ही उद्देश्य है कैसे भी करके विपक्ष को परेशान करना!

जब भी इकॉनमी कमजोर होती है, मुझे अपनी पार्टी की ओर से बयान देना पड़ता है, और इससे भी बड़ी दुःख की बात ये है कि बयान देने के लिए ‘बोलना’ पड़ता है!” -सिंह साब ने आरोप लगाया। कांग्रेस पार्टी ने भी सरकार को चेतावनी दी है कि अर्थव्यवस्था को जल्दी पटरी पर लाया जाए ताकि मनमोहन सिंह जी फिर से नार्मल महसूस कर सकें।

उधर, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने कांग्रेस पार्टी के इन आरोपों का खंडन किया है, उन्होंने कहा कि, “हम बदले की भावना से काम नहीं करते! अगर एडम स्मिथ मोटरकार का अविष्कार नहीं करते तो आज ऑटो सेक्टर होता ही नहीं और इस सेक्टर में मंदी भी नहीं होती! अमेरिका और चीन भी मरे जा रहे हैं, इसलिए सिर्फ मनमोहन सिंह जी को बुलवाने के लिए ‘मंदी’ नहीं आई है!



ऐसी अन्य ख़बरें