Sunday, 8th December, 2019

चलते चलते

बीजेपी में शामिल होने वाले MLA's को देना पड़ता है चाय-पानी का खर्चा, इसीलिए लगाया पेट्रोल-डीजल पर सेस: वित्त मंत्री

17, Jul 2019 By Fake Bank Officer

नयी दिल्ली. थकेले सूत्रों से पता चला है कि आम बजट में मोदी सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक रुपए का जो अतिरिक्त ‘सेस’ लगाया है, उस सारी इन्कम को उन MLA’s पर खर्च किया जाएगा जो बीजेपी में शामिल होना चाहते हैं। विधायकों का जुगाड़ करना कोई बच्चों का खेल नहीं है, इसलिए सरकार को यह बोझ जनता के कंधों पर डालना पड़ा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह महत्वपूर्ण जानकारी दी।

nirmala
थोड़ा मैनेज कर लो!

“आप तो जानते ही हैं कि आजकल महँगाई कितनी बढ़ गयी है, हर विधायक ‘मंत्री’ बनना चाहता है, और जो मंत्री है वो मुख्यमंत्री की कुर्सी हथियाना चाहता है! कुछ विधायक तो बड़े बद्तमीज़ होते हैं, मार्केट रेट से डबल ‘चाय-पानी’ का खर्चा मांगते हैं! ऐसे में सारा बोझ पार्टी फंड पर तो नही डाल सकते ना? कुछ तो जनता को भी योगदान देना पड़ेगा!” -वित्त मंत्री ने सफाई दी।

“इसलिए हम ने ‘विधायक वित्तपोषण योजना’ के अंतर्गत, पेट्रोल और डीजल पर एक रुपया अतिरिक्त ‘सेस’ लगाया है! इससे जो भी आय प्राप्त होगी, उसका इस्तेमाल सिर्फ MLA’s को प्रभावित करने में किया जाएगा! ऑडिट भी चोखा कराया जाएगा!” -उन्होंने आगे कहा।

उधर, यह बात चल ही रही थी कि कर्नाटक से खबर आई कि कांग्रेस के बड़े नेता, रूम सर्विस के बहाने होटल में घुस आये और अपने बागी MLA’s को पार्टी में वापस खींचने का प्रयास करने लगे। हालाँकि बागी विधायकों ने उन्हें साफ मना कर दिया कि अभी उनकी ‘अंतरात्मा’ इन्टैक्ट है और वे कांग्रेस पार्टी में वापस नहीं जाएंगे।

बीजेपी ने इन विधायकों के ईमानदारी की सराहना की है और इस घटना को लोकतंत्र की जीत बताया है।



ऐसी अन्य ख़बरें