चलते चलते

सद्गुरु की तर्ज पर बाबा रामदेव और श्री-श्री रविशंकर भी लायेंगे देश की इकॉनमी पर विडियो, शुरू हुई तैयारियाँ

01, Jan 2020 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. आध्यात्मिक गुरु सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने ‘नागरिकता संशोधन कानून (CAA)’ और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (NRC) का समर्थन कर दिया है। कानून की बारीकियों को समझाते हुए सद्गुरु ने बाकायदा वीडियो बनाया है जिसे खुद पीएम मोदी ने ट्वीट कर दिया।

baba
वीडियो बनाते बाबा रामदेव

इस वीडियो के लोकप्रिय होते ही ‘बाबा’ समुदाय में खलबली मच गयी। खबर है कि बहुत से अन्य लोग भी देश के ज्वलंत मुद्दों पर वीडियो के जरिये राय रखने की बात सोचने लगे हैं।

कौन किस मसले पर बोलेगा इस समस्या का समाधान निकालने के लिए पिछले दिनों की आपातकालीन मीटिंग रखी गयी थी। मीटिंग में पर्ची सिस्टम के तहत मुद्दों का बँटवारा करने का फैसला लिया गया है।

हमें पुख्ता जानकारी मिली है कि पहली पर्ची के आधार पर देश की अर्थव्यवस्था पर चर्चा होगी और इस मुद्दे पर रौशनी डालने का दायित्व ‘बाबा रामदेव’ और ‘आर्ट ऑफ़ लिविंग’ के श्री-श्री रविशंकर पर आया है। पर्ची मिलते ही दोनों बाबाओं ने, हरिद्वार स्थित आश्रम में तैयारियाँ भी शुरू कर दी हैं।

चार घंटे शीर्षासन करवाने के बाद, फ़ेकिंग न्यूज रिपोर्टर से बात करने को तैयार हुए बाबा रामदेव ने कहा कि, “योग के अलावा ‘इकॉनमी’ पर बोलना मुझे सबसे अच्छा लगता है, पहले तो मैं डर गया था कि कहीं मुझे कोई दूसरा साथी ना मिल जाए लेकिन रविशंकर जी के साथ हम देश की अर्थव्यवस्था पर गहराई से प्रकाश डालेंगे!

हम दोनों ही वीडियो को लेकर बहुत उत्साहित हैं, मेरा मानना है कि चौबीस घंटे में ही दस मिलियन व्यूज को पार कर जाएँगे!” -बाबा रामदेव ने कपाल-भाती करते हुए कहा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यूट्यूब वाले बिजनेस की ओर उनका ध्यान पहले नहीं गया वरना आज वो यूट्यूब में भी स्टार होते।



ऐसी अन्य ख़बरें